#berojgari

11 posts
  • narendranayak 61w

    लफ़्ज़

    हे कोई बात जो तुम्हे कहना चाहूं!
    लफ़्ज अटकते है हलक़ में कुछ कह भी ना पाऊं!!

    मेरा जीवन है तुमसे तुम पर ही खत्म!
    तुम्हे पाना भी चाहूं तुम्हे पा भी ना सकूं!!

    मेरे दिल के आंगन मे तूं खिलता हुआ फूल है!
    तुमसे ही महकता हूँ तुम्हे छूं भी ना सकूं!!

    नानी से सुनी थी परियों कि कहानी!
    तूं हूबहू है वैसी, पर तेरे संग उड़ ना पाऊं!!

    मेरे सोच के दायरे मे बस तेरा ही जिक्र होता!
    सबको बताता रहता हूं बस तुमसे कह ना पाऊं!!

    लड़ सकता हूं जमाने से तुझे जीतने की खातिर!
    तुम्हे हार कर सब जीतने अच्छा है मर जाऊं!!

    हूं शांत बहोत मैं मगर अंदर मेरे ईक शोर है!
    रौ भी नही सकता मैं खुलकर तेरे सामने हस ना पाऊं!!
    ©narendranayak

  • narendranayak 68w

    चुनाव आया है

    आज गांव कि गलियां साफ हो गई, अब नालियो मे पानी नही रूकता है!
    चारो तरफ स्वच्छता अभियान चला है, कई सालो से पड़ा कचरे का ढेर भी आज नही दिख रहा है! !

    पुरे गांव को आज दुल्हन की तरह सजा दिया!
    कई सालो से सो रहे मास्टर जी ने बच्चो को आज सारा ज्ञान सिखा दिया!!

    बुजुर्गो को कम्बल और बच्चो को मिठाई खिलाई जा रही है!
    नशेड़ीयो मे शराब और माताओ मे शोल बाटी जा रही है! !

    फिर गाड़ियों का एक काफ़ीला आता है, चारो ओर हाहाकार मच जाता है!
    यह माताए मेरी यह बहने मेरी यह साथी मेरे यह बुजुर्ग मेरे ऐसे ही झुमले कहकर कोई पुरे गांव को गोद ले जाता है! !

    पता नही ये उजले-उजले वस्त्र पहने गांव का बेटा कौन आया है!
    कोई बड़ा आदमी लगता है, बड़ा आदमी ओर वो भी हाथ जोड़े खड़ा है? लगता है गांव मे चुनाव आया है! !

    जब से कुर्सी मिली गांव का बेटा फिर परदेश चला गया!
    ना जाने कब लौटकर आयेगा, हमे सुनहरे सपने दिखाने वाला कब हकीकत बनकर आयेगा! !

    आज इतने बरसो बाद फिर गांव चमचमा रहा है!
    हमारी मरी हुई उम्मीदो को कोई कंधा देने आ रहा है! !

    फिर से कोई नया शख्स गांव को गोद लेने आ रहा है!
    फिर कोई खड़ा है हाथ जोड़े,लगता है फिर से चुनाव आ रहा है! !
    ©narendranayak

  • narendranayak 71w

    #berojgari #pade likhe angutha chap #diary #laugh #poems by narendranayak

    Read More

    बेरोजगारी

    वोटो कि खातिर यह क्या-क्या नही करते है!
    इस देश की जनता से वादे हजार करते है!!

    जब हो जरूरत इनको दहलीज तक आते है!
    कुर्सी पाते ही यह फिर नज़र ही नही आते है!!

    इस देश के युवाऔ से ये खिलवाड़ करते है!
    देकर झांसा इनको होशला तार-तार करते है!!

    शिक्षा के नाम पर यह डोनेशन भारी लेते है!
    रोजगार के नाम पर तारीख पर तारीख देते है!!

    स्वरोजगार के नाम पर बैंको ने भयंकर लुटा है!
    जनता से नही बैंको से इनका सिधा नाता है!!

    ऐ वोट मांगने वालो जरा इक पुकार सुन लो!
    युवाऔ के दिल मे उठने वाला शौर जरा सुन लो!!

    इन पढ़े लिखे लोगो को अंगूठा छाप बना दिया!
    रोजगार के नाम पर ठेंगा इनको दिखा दिया!!

    वोटो के खातिर यह क्या-क्या नही करते है!
    इस देश की जनता से वादे हजार करते है!!
    ©narendranayak

  • karigar 79w

    Garibi

    ©suchitra_bharti
    Samaj ko ya sarkar ko
    ya apni es lachari ko
    es berojgari ko
    Ya apni garib jati ko
    Ya afat ban ayi es rog ko
    Ya thapa lagane ki adat ko
    Anpadh hu n
    Samjh nhi hai
    Ye baduva lagau to kise
    Kal to kat liya hane
    Aaj bhukh hai tej lagi
    N kam kahi par milta hai
    Kadam bahar rakhne par rok lagi
    Kal to kat liya hane
    Aaj bhukh bohot hai tej lagi
    Kahte hai vo log
    Dhoye hath 20sec tak
    Vo bhi din me 20 bar
    Ab kon unhe bataye
    Khane ko bhi n jute ye sabun kha se laye
    Suna hai thik hojate log jinko yah rog lagi
    Bas rakhna khane ka dhayan
    Ab kha se lau sabji hari
    jab kal khaya tha nun bhat
    Bas kat jaye aaj ka din yahi soch rat biti

  • chandansharma__ 133w

    बेकारी.. !

    रोज़मर्रा जाने कितनी ज़िन्दगी खा रही है बेकारी!
    शहर शहर गाँव गाँव तबाही मचा रही है बेकारी !
    ©chandansharma__

  • vihanbakolia 139w

    बेरोजगार

    JCB जैसी है तू मन करता है

    सारे काम छोड़ कर तुझे देखता रहू


    (बदनाम शायर)

  • lifeistooochota 145w

    Berojgari Kam thi Duniya ma,
    Ab Tiktok wale bhi aagaye

    ©lifeistooochota

  • dinesh_shukla 157w

    लहजा शिकायत का था,
    मगर महफ़िल समझ गई,
    मामला मोहब्बत का है।
    ©pandit_dinesh

  • sharmaji1 177w

    Footpath

    Wo ek chadar ke sahare katti hui zindagi..

    Thand me odhte,garmi me bichate,Barsat me Tambu lagati hui zindagi ....
    Thakan ko Odhker Aram se So jati hui Zindagi...

    Kabhi kisi nukkad pe,To kabhi kisi Mod pe
    Chand paise bachati Hui zindagi..
    Mano Mele Jaisi seher mein Kho jati hui zindagi ..

    Ankho se behker kisi apne ko dhundti Hui zindagi..
    Kat jati hai Zindagi,Kisi ki banati hui zindagi

    Wo ek chadar ke share katti hui Zindagi.....

    #RANVIR SHARMA

  • sharmaji1 192w

    Jeeta Hu Mai✌️

    Khud ko Haar Kar V Jeeta hu mai ..
    Khud Ki najro Mein gira hu,tab jaker khud ko paya hu mai..
    Yu hi nahi Koi Ek raat me apni taqdir banata hai ..
    Kai raat soya nahi,tab ekk Pehchan banaya hu mai..
    Kichad to meri raho mein v mile hai jarur
    Unhi gadhoo Ko bharker,unchai banaya hu mai
    Khud ko Haar Kar v Jeeta Hu mai.️


    #RANVIR SHARMA

  • sharmaji1 192w

    Footpath

    Wo ek chadar ke sahare katti hui zindagi..

    Thand me odhte,garmi me bichate,Barsat me Tambu lagati hui zindagi ....
    Thakan ko Odhker Aram se So jati hui Zindagi...

    Kabhi kisi nukkad pe,To kabhi kisi Mod pe
    Chand paise bachati Hui zindagi..
    Mano Mele Jaisi seher mein Kho jati hui zindagi ..

    Ankho se behker kisi apne ko dhundti Hui zindagi..
    Kat jati hai Zindagi,Kisi ki banati hui zindagi

    Wo ek chadar ke share katti hui Zindagi.....

    #RANVIR SHARMA