#barish

611 posts
  • ved_25 2w

    WAQT

    Aate aate der hui hai barish ko
    Sookhe faslon ko pani se kya mtlb


    ©ved_25

  • night_mist_ 3w

    Dua

    Baarish ka hona koi ittifaq toh nahi lagta hai kisi ne kasrat se dua maangi hai apne rabb se jo baadlo ko cheerte hue arsh se jaa takrai hai
    ©night_mist_

  • sahutarini 5w

    एक वक्त था, जब उसके आने की आहट से ही दिल को सुकून मिलता था ...
    पर उदास हो कर वो यूँ ही चला गया...
    जब उससे इश्क़ करने वाले हम,टेक्नोलोजी से प्यार कर बैठे...
    उसके साथ बहने वाली कागज की कश्तियाँ भी बह गयी .
    जब वो एक याद बनकर रह गए..
    ©sahutarini

  • mansisain 7w

    Mere Ehsaas- 07/09/2021

    Aaj Badalo ko mene bhut karib se dekha.,
    Wo garjna nahi barsna chahte hai,
    Aaj Badalo ko mene na jane kitne rango badlte dekha hai,
    Apni barish ki har ek boond se ye batana chahte hai,
    Ki wo bhut khush hai..,

    Sath hi In Hawao ko mehsoos kiya..,
    Jese maano, mahobbat se tuti hui meri rooh ko shant karne hi aayi ho..,
    Meri ansuon se bheegi ankho ko thandak dene aayi ho..,
    Aur na jane..,
    Mere kitne ehsaaso ko apni har ek bhoodo or thandi hawao se..
    Mitane or banane aaye ho..
    Jese maano aaj ye sirf mere liye hi aaye ho.


    ©mansisain

  • miss_as 8w

    Barish(rain)-3

    Today's rain remind me of that days
    When at exact school timing rain just stops
    When we decided not to go to school it just stops
    So we forcefully have to go to school
    Those days were literally precious

    ©miss_as

  • aarushhh 9w



    बारिशों से कह दो,
    इतना न बरसे अब शहर में हमारें,
    साथ भीगने वालों ने अब साथ छोड़ दिया है...!!!

    ©aarushhh

  • go4sandeep 11w

    बारिश

    दिल आज भी बेचैन है ,
    बारिश को तरसते नैन है ।
    बादल तू बंद कर ये
    आंख-मेचौली ।
    ऐ घटा तू जम के बरस
    मिटा दे प्यासी धरती की तरस ।।

    ©go4sandeep

  • pratiksha31 12w

    चाय

    ©pratiksha31
    एक चाय की खुशबु,
    और दूजी तेरी यादें,

    इन दोनो के नशे में,
    बीत रही है मेरी रातें!!

  • spilled_inkpot 12w

    रिश्ते

    बारिश , आंधी, तूफान , आते हैं आते रहेंगे
    जिन्हे अहमियत पता है रोशनी की वो दिया जलाते रहेंगे

    और तुम दिल तोड़ दो चाहे लाख बार उनका
    कुछ लोग पागल होते हैं, रिश्ते निभाते रहेंगे

    ©spilled_inkpot

  • spilled_inkpot 12w

    बारिश

    आशिक़ बर्बाद होने वाले हैं उस मोहल्ले के
    सुना है उसे बारिश में भीगना पसंद है ।
    ©spilled_inkpot

  • boundless_stories 13w

    इन खुबसूरत
    बरसते बरसात के
    मौसम मे,
    कमी बस इस बात की हैं,
    तुम साथ नहीं हो अभी।
    ©boundless_stories

  • alkatripathi 13w

    बचपन..

    सावन की मनभावन बारिश
    गीली मिट्टी में खेलता बचपन
    कहीं कागज़ की कोई नाव बनाता
    उस नाव में फिर तैरता बचपन
    कहीं खेतों में कोई मेढ़ बनाता
    फिर भूखे सो जाता बचपन
    कहीं सतरंगी कोई छाता लेकर
    उछल-कूद कर गाता बचपन
    कहीं फुटपाथ पर कोई बोरा लेकर
    इसी बारिश को कोसता बचपन
    ©alkatripathi

  • dinesh_bhardwaj 13w

    बूंदे जो आसमान से तेरे चेहरे पर गिर रही हैं
    खुशनशीब हैं
    जिसे हम नज़र उठा कर देख नहीं पाते
    ये छूं कर बातें रहीं हैं।
    ©dinesh_bhardwaj

  • pushp_harshwal 13w

    मॉनसून का मतलब है
    ना किसी की मान
    ना किसी की सुन
    बस बारिश में भीग जा
    और मस्ती में झूम
    ©pushp_harshwal

  • deepakgill 16w

    ❤️

    ए बादल तू किन ख्यालों में खोया है,
    जरा आँखें खोल कर तो देख, किसान आज फिर रोया है,

    बारिश की बूंदों से नहाने की उम्मीद मे,
    आखिर थक हारकर, पसीने से ही "बदन" उसने धोया है,

    ए बादल तू किन ख्यालों में खोया है,
    तेरे बरसने की आस में, "बंजर" जमी पर भी बीज उसने बोया है,

    ए बादल तू किन ख्यालों में खोया है,
    किसान को तो देख, अरसों से जो कहां सुकून की नींद सोया है ।

    ए बादल तू किन ख्यालों में खोया है..??

    ©deepakgill

  • deepakgill 16w

    सूरज की इस तपन से कह दो
    हट जाए..
    मुझे बादलों से बात करनी है,

    ए गर्मी तू भी चली जा कहीं दूर
    मुझे बारिश से मुलाकात करनी है।


    ©deepakgill

  • shreyashabd 16w

    बारिश

    न जाने कैसे रिहा करता होगा आसमां अपने कलेजे के टूकड़े को,
    छुपा के जिसे रखता है अपनी आगोश में,
    छूटते ही आसमां के गले से,
    कैसा बिखर जाता है ☁बादल,
    जमीं पर आते आते बूंद हो जाता हैं.
    ©shreyashabd

  • beautiful_feelings 16w

    याद है तुम्हे....जब हम साथ मिलकर बारिश का बेसब्री से इंतज़ार किया करते थे पता नहीं क्यों....तुम्हे कुछ खास बारिश तो पसंद नहीं थी.....लेकिन मेरे लिए हम साथ मिलकर बारिश का ऐसे इंतज़ार करते थे मानो जैसे हम बरसो से किसी अपने बिछड़े हुए का इंतज़ार कर रहे हो पता नहीं क्यों....जब भी मेरा बारिश के मौसम मे लिखने का मन हुआ करता था...तुम मुझे नए नए विषय सुझाते थे....जैसे लगता था तुम्हारे बिना मेरी ये लेखनी अधूरी है पता नहीं क्यों....ऐसे तो मेरे बड़े भाई भी लिखने मे कुछ कम नहीं थे....लेकिन मै जब भी कहती लिखना तो है मुझे.... पर पता नहीं क्या...तो कहते पता नहीं ही लिख लो....इस पता नहीं से अजीब ही रिश्ता है मेरा...वैसे भी हमारी जिंदगी में होने वाली किसी भी बात का कहा पता होता है हमे ठीक से कुछ भी...बरसो पहले भी मुझे कहा पता था...... कि हम क्यों बारिश का बेसब्री से इंतज़ार किया करते है.......बारिश नहीं पसंद थी तुम्हे...लेकिन तुम्हे उम्मीद थी कि बारिश जरूर होगी पता नहीं क्यों....तुम इसी उम्मीद पर छाता लेकर आया करते थे....और तुम्हारे इस विश्वास से मेरा विश्वास और मजबूत हो जाता था कि बारिश होगी पता नहीं क्यों.....��

    इंतज़ार करते करते अचानक देखना कि बारिश की छोटी छोटी बूंदे हमारे इंतज़ार को खत्म कर रही है....उन बारिश की छोटी बूंदों से भी हमारा इतना ज्यादा खुश हो जाना पता नहीं क्यों....और फिर तेज बारिश के साथ रेडियो मे चलने वाले बारिश के गीतों कि तरफ ध्यान जाना...और मेरा खुशी के वजह से थिरक जाना पता नहीं क्यों....फिर तुम्हारे छाते मे साथ घूमने जाना और मेरा बारिश मे भीगना....जैसे दुनिया की सारी खुशियां तुम्हारे साथ ही मिल गई हो...पता नहीं क्यों....और फिर हर अगली बारिश पर हर बार की तरह हमारा साथ इंतज़ार करना पता नहीं क्यों.....आज तुम मेरे साथ नहीं हो पता नहीं क्यों....पर मुझे आज भी उसी तरह बारिश का इंतज़ार है पता नहीं क्यों....और इंतज़ार इस बात का भी कि तुम आओगे कभी उसी तरह पता नहीं क्यों....हम फिर बारिश का बेसब्री से इंतज़ार करेंगे...पता नहीं क्यों.....��️����❤️��️��❤️��️��❤️��️��❤️��️��❤️

    #barish #intezar ����

    @beautiful_feelings

    Read More

    पता नहीं....️❤️
    ©beautiful_feelings

  • _sabr_ 17w

    #बारिश

    बारिशें वक़्त बेवक़्त
    हो ही जाती हैं,
    तलाशना तो सागर को पड़ता है।
    मैं “सागर” हूँ
    पर मुझे बारिशें पसन्द हैं।
    ©_sabr_

  • mysteriousde 17w

    @mirakeeworldwidewriter @mirakee
    #naturelover #barish #khushboo

    How beautiful nature is ��
    Provides everything without any stress

    Read More

    सब इत्रों की खुशबू धुल गई,
    जब बारिश की बूंदे मिट्टी से मिल गई !!
    ©mysteriousde