#bachpankedin

7 posts
  • nikj18 8w

    बचपन की यादें....

    यूँ रोते हुए ज़ब घर से स्कूल के लिए निकलते थे हम
    लिए आँखों मे आंसू,गुमसुम से रहते थे हम
    जब होती थी छुटटी तो आते थे घर,
    बिना खाना खाए,बिना ड्रेस उतारे
    दोस्तों सँग खेलने चले जाते थे हम
    वो बारिश के पानी मे नावों को चलाते थे हम
    और रिमझिम बारिश मे खुद को भीगाते भी थे हम
    पर पापा के गुस्से से डरते थे हम
    और यूँ चुपके से घर पर आते थे हम
    ना थी खबर उनको ना, माँ को पता था
    थे दादी और बाबा उन्हें सब पता था
    जो करते थे हम कुछ, तो बचाते वो हमको
    और इसी बात पर फ़क्र करते थे हम
    झूठ बोलते थे फिर भी कितने सच्चे थे हम
    ये उन दिनों की बात है जब बच्चे थे हम
    बिना कुछ समझ के भी सब समझते थे हम
    वो दिन भी क्या दिन थे जब बच्चे थे हम
    ना फ्यूचर कि चिंता, ना पढ़ाई का ग़म
    कि हर एक ख़ुशी मे ख़ुश रहते थे हम
    हर त्यौहारों को खुलकर मनाते थे हम
    उन बचपन के दिनों मे ही अच्छे थे हम

    "ना रिश्ते ओर नाते, ना कसमें ना वादे
    के बहोत याद आती हैँ वो बचपन कि यादें "

    -निखिल जायसवाल

  • rishiraj17 74w

    Bachpan ke Din

    Jhut bolte the phir bhi kitne sache the hum,
    Ye un dino ki baat hai jab bache the hum,
    Rone ki na koi wajah bhi na thi,
    Na hasne ka koi bahana tha,
    Kyu ho gye hum itne bade,
    Isse aacha to humne bachpan gujara tha,
    Zindagi ki har sham me bachpan ko saath rakhna hai,
    Umra mahsus nhi hogi safar ke har mukam ko pana hai.
    - Mere lafz
    @hit_man_rishi
    @mere.lafz17

  • miracle_dreamer 104w

    आओ मिलकर चाय पियेंगे,
    अपनें बचपन के किस्सों को फिर से जीयेगे,
    थोड़ी सी थकावट हो गई है इस बड़पन की जिंदगी से,
    आओ हम फिर बच्चे बनके वहीं बेफिक्री की जिंदगी दोबारा जीयेगे।
    ©tina_gahlot

  • _laconic 118w

    ...बचपन की बारिश...

    बचपन में सावन के
    क्या दिनहुआ करते थे...
    बस अपनी ही धुन में
    मस्त रहा करते थे...
    वो झूले पर अपनी बारी
    का इंतजार,
    हुजूम बनाकर दोस्तो के
    साथ खेला करते थे...
    वो बारिश के पानी में
    भीगना, झूमना और
    कागज की अपनी
    कश्ती चलाया करते थे...
    न जाने कहाँ गुम हो गये
    वो दिन...
    काश फिर लौट आयें बचपन के
    वो दिन...
    जब सही मायनों में हम
    जिंदगी जिया करते थे...।।
    #baarish #bachpan #love #life #bachpankiyaadein #bachpankedin #bachpankibaarish #yaadein

    Read More

    .

    बचपन की बारिश
    ©nishurastogi

  • kajalludhwani 122w

    Bachpan

    Kya din the vo bachpan ke
    Jha sabhi dost cricket ki team bnate
    Jha dhoop me khelna bhi dosto k sath mann me khushi bhar deta tha,
    Aaj vhi dost na jane kha ojhal se hgye h
    Sab apni jindagiyo me paisa kmane k khwaish me kho se gye h
    Ae dost jb sukoon hi ni jis jindagi me uss paise ka kya kroge...


    ©kajalludhwani

  • rohitmi16 143w

    बचपन के दिन

    वो दिन याद आते हैं,
    जब हम युही गलियों में घूमा करते थे

    वो दिन याद आते हैं,
    जब हम युही गलियों में घूमा करते थे

    किसी को गाली,
    किसी को थप्पड़,
    किसी को प्यार
    बस युही दे दिया करते थे

    वो दिन याद आते हैं,

    जब मां के हाथों की रोटी और दादी मां के हाथों का प्यार पसंद किया करते थे।

    वो दिन याद आते हैं,

    जब हम रोया करते थे तो
    सभी युही दौड़ कर आ जाया करते थे

    कभी मां के तो कभी दादी मां के गोद में युही घुमा करते थे।

    वो दिन याद आते हैं,

    जब हम मेले में युही हर एक चीज के लिए रोया करते थे

    वो दिन याद आते हैं,

    जब हम अलग-अलग तरह के खिलौनों को देखकर युही उक्षल जाया करते थे।

    वो दिन याद आते हैं,

    जब घर में चाहे जितने भी खिलौने हो पर दुसरो का देखकर हम युही मुंह बना लिया करते थे।

    वो दिन याद आते हैं,

    जब हम बहुत शैतानियां करते थे,
    दुसरो का सुनकर हम युही कभी इसकी, कभी उसकी, कभी मां की, कभी बहन की गालियां दे दिया करते थे।

    वो दिन याद आते हैं,

    जब हमारी सुनहरी गालियों को सुनकर घर वाले दो तीन थप्पड़ युही दे दिया करते थे।

    वो दिन याद आते हैं।
    वो दिन याद आते हैं।
    ©rohitmi16

  • _insane_nineteen_ 153w

    Hnn m bdi ho gyi hu.....

    Haan m bdi ho gyi thi.......

    Hn m bdi ho gyi......mujhe samj aane lga tha ....
    Smj aane lga tha garib or amir ke beech ka fasla......
    Smj aane lga tha ki ek bar ko yh fasla to mit sakta h ..lkin logo ki soch nhi.....
    Samj aane lga tha ab choti m nhi ab choti soch h logo ki......
    Smj aane lga tha.......ki paise ped pr nhi ugte or bacche kisi khali mitti ke bartano se nhi aate...
    Or wo bachpan m dadi nani ki kahaniya mano, mehaz bs ek sapna bn kr rh gyi thi....
    Hnn m bdi ho gyi thi....mujhe smj aane lga tha.......
    Ki kase wo dream wrld ,wo sapno ki duniya aaj reality ki duniya m bdl chuki thi......
    Wo duniya jo kbhi thi hi nhi.....aaj mano lgta h ki kash hoti.....
    Smj aane lga tha....ki wo prince charming horse riding krte hue kbhi aayga hi nhi.....
    Smj aane lga tha ki bachpan ki wo duniya aaj ki is duniya se kitni alg thi......
    Bachpan m dadi jo kahani sunati thi ....unme to burai jasa kch hota hi nhi tha.......kase jb nani koi kahani sunati or uska matlb batati.......to unme sirf maltb hota tha matlbi log nhi......
    Ab sb smj aata h bachpan se bde hone tk ka yh safar. Koi mamuli safar nhi tha......
    Smj aane lga tha....aachai or buari ki wo dewar...jise bahar se to dekh sakte h ...lkin uske ander dekh kr yh nhi bta sakte ki hnn yhh accha h or yh bura h ....agr yh bahar se accha h to yh ander se bura hoga ya nhi.....
    Smj aane lga tha....ki kyu raat hote hi mummy bolti thi ki ab bahar nhi jana.....or hm chote the to unke bahane bhi kch kash bde nhi the...chlo ander aajao maccharo ka time ho chla h....aawara kutte bhi aaynge ....koi khi kaat na le isiliye ander aao....
    Likn ab sb smj aata h....
    Smj aata h maccharo or kutto ka wo raaz jise samjne ke liye sayad tb hm bht chote the......
    Samj aane lga tha ki.... kyu didi har raat chid chida kr so jaya krti thi.....or beech raat m ankh khulne pr dekho to roya krti thi.....
    Smj aane lga tha ....ki jb kisi ko tut kr pyar kro ....or bdle m pyar jasa kch mile hi na ....to kasa lgta h....
    Smj aane lga tha.....jb dil se kisi ko apna sb kch maan lo....uski khushi ke liye khud ke ghamo ko aage rakh kr har kaam kro......
    Or bdle m sunne ko mile ...kia hi kya h tumne mere liya ...to kasa lgta h.....
    Sb smj aane lga tha.....
    Wo bachpan se bde hone tk ka fasla ......mano kbhi to bs ek kosh ki doori ke saman tha....to kbhi saat samunder paar ki doori se bhi lamba......
    Ab sb smj aane lg tha......
    Hnn m bdi ho gyi thi...mujhe sb smj aane lga tha.....
    ©_insane_nineteen_