#awaz

64 posts
  • _insiya 7w

    Khamoshiyan bhi sb kahti hain,
    Kbhi gaur se sunkr dekhna...
    ©_insiya

  • goldenwrites_jakir 13w

    अंतरा

    कुछ तो वजह " दे जा जरा फिर जीने की
    कब तक ये दिल आंहे भरे - कब तक ये दिल तन्हा रहे
    कब तलक हां हां हां कब तलक ये दिल यूँ ही रोता रहे
    कुछ बजह दे जा जरा --- कुछ बजह फिर जीने की दे जा जरा
    दे जरा दे जरा दे जा जरा ----- दे जा जरा ......
    ©goldenwrites_jakir

  • _soundless_ 20w

    ज़िन्दगी एक अनजान सफ़र ही तो है, यहाँ हर किसी को अपनी मंज़िल खुद खोजनी पड़ती है। कोई साथी नहीं है इधर सब साथ छोड़ देंगे मगर आपका दिल हमेशा होगा बस आपको अपनी अंतरात्मा की आवाज़ को पहचाना होगा। फिर सब कठिनाईयाँ आसान तो नहीं होंगी पर उनक सामना करने का हौसला ज़रूर मिल जाएगा और आप भी आखिर में अपने मुकाम तक पहुँच जाएंगे। तो इंतज़ार किसका...उठो और बस चल पडो।

    Best wishes ������

    @mirakee @readwriteunite @writersnetwork @hindiwriters #awaz #man_ki_awaz

    Read More

    एक-आवाज़...

    सर्द रात...घने बादल और चारों ओर बस सन्नाटे की गूंज, हर कदम पर ख़ामोशी का पहरा। बेपरवाह सा वो बस चलते ही जा रहा था। ना ख़बर उसे मंज़िल की ना पहचान उन राहों की, गुमनाम सा वो राही भटका सा लगता था। दुनिया की भीड़ से आज़ाद तन्हाई की तलाश में, बस चलता ही जा रहा था। ना कोई यार ना कोई प्यार, वो अपनों का ठुकराया था। टूटा था इस क़दर वो जज़्बातों को भूल चुका था। ना सुनने वाला उसे कोई दर्द-ए-दिल छुपाए, बस चलता ही जा रहा था। फ़िर हुआ यूँ कि... सामने अब तीन-तीन राहें थीं, वो रुका इर्द-गिर्द नज़र घुमाई तो मालूम हुआ काफ़ी दूर आ चुका है, मंज़िल की कोई ख़बर नही और वापस जाना नहीं। उलझनों से घिरा बैठ गया थक कर वहीं। वो खुद से हारा हुआ था सबकुछ जैसे खत्म हो गया। तभी एक आवाज़ आई जैसे कोई उसके बेहद करीब से गुज़रा हो फ़िर मालूम हुआ एक तेज़ हवा का झोका था। इतना अकेला हो गया अब तो हवाएँ भी गूंज रहीं थीं। फिर कुछ देर बाद उसे एक आवाज़ सुनाई पड़ी जैसे कोई उसका नाम पुकारा हो। बड़े प्यार से कोई उसे बोला "इतना दूर तक आकर यूँ बिखर जाना तो अच्छा नहीं, यह सफ़र-ए-ज़िन्दगी है सबको यहाँ अकेले ही चलना पड़ता है........अब उठो भी (किसीने ज़ोर से चिल्लाया)" इतना कहकर वो अजनबी ख़ामोश हो गया। हैरान-परेशान वो उठा एक लम्बी साँस ली और फ़िर चल दिया। मगर इस बार एक आस थी उसे कहीं पहुंच जाने की, एक जुनून था कुछ हासिल करने का। उस धुंधली हो चुकी ख़्वाबों की तस्वीर को फिरसे रंगीन करने वो निकल पड़ा। और आखिर में खोज ही लिया उसने वो मुकाम जहाँ जाना महज़ एक ख़्वाब बन चुका था उसने हकीकत कर दिखाया। पर एक सवाल आज भी उसे सता रहा था 'कि आख़िर कोन था जो उसे खुद से मिला गया, किसकी आवाज़ थी वो जो उसे गिरकर उठने की आस दे गई। क्या वो कोई भ्रम था या उसके ही मन की आवाज़ जो भटकती राहों में उसे खुद से मिला गई।'
    ©nisha19

  • sramverma 22w

    Date 26/06/2021 Time 10:00 AM #SRV #awaz

    कोई शय टूटती
    तो टुकड़े जोड़ लेती
    पर वज़ूद की किरचें
    कहाँ ढूंढूं मैं;

    दर्द लिख दूंगी
    जवाब में तुम्हारे
    खतों के पर ये
    तो बताओ अपनी
    रूह के दर्द कैसे
    बयां करूँ मैं !

    शब्दांकन © एस आर वर्मा

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner..

    Read More

    कोई शय टूटती
    तो टुकड़े जोड़ लेती
    पर वज़ूद की किरचें
    कहाँ ढूंढूं मैं;
    दर्द लिख दूंगी
    जवाब में तुम्हारे
    खतों के पर ये
    तो बताओ अपनी
    रूह के दर्द कैसे
    बयां करूँ मैं !
    ©sramverma

  • sramverma 22w

    Date 25/06/2021 Time 10:00 AM #SRV #awaz

    कई बार
    ना जाने क्यों
    ऐसा लगता है
    कि मैंने तुम्हे खो दिया
    और जैसे सब कुछ लूट
    गया हो मेरा ;
    फिर,
    अचानक से
    तुम मुझे कहीं
    से पुकार लेते हो
    और तब मुझे ऐसा
    लगता है मानो जितना
    कुछ खोया था उस से
    कहीं ज्यादा पा लिया
    हो मैंने !

    शब्दांकन © एस आर वर्मा

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner..

    Read More

    कई बार
    ना जाने क्यों
    ऐसा लगता है
    कि मैंने तुम्हे खो दिया
    और जैसे सब कुछ लूट
    गया हो मेरा ;
    फिर,
    अचानक से
    तुम मुझे कहीं
    से पुकार लेते हो
    और तब मुझे ऐसा
    लगता है मानो जितना
    कुछ खोया था उस से
    कहीं ज्यादा पा लिया
    हो मैंने !
    ©sramverma

  • stellaire_mystique 22w

    "Vø ßååt"

    ...Ha us pal hum baat karte krte iss manjar par aa pahuche ki usne puchlia mujhe "AB BOL KYA HUA SHANT KYU HAI"
    Khene ko or batane ko toh bhut kuch tha par hum bas ruk gye us peher ye sochke ki mein bolu ya ni bas ye sawalat tha mere mann mein kahin ki kyaa tum mujhe sun bhi rahe ho ya nahi...!!
    ©stellaire_mystique

  • dard786 31w

    TUJHE BULAYENGI YEH RAATEIN

    Teri Yaadein Hai Basi Zameen Se Aasmaan Tak, Dekh Kar Haseen Chand Royengi Ye Raatein, Bas Jana Tum Aankhon Mein Khawab Ban Kar, To Shayad Zara Sa Sambhlengi Ye Raatein,
    Bhula Na Paoge Tum Meri Mohabbat Ko Kabhi, Aawaz De Kar Roz Tujhe Bulayengi Ye Raatein
    ©dard786

  • dard786 42w

    TERI AWAAZ

    dur hokar bhi intehaan kareeb ho..
    pass sanson mein pale aur aahon mein sharikh ho
    khamosh aakhon mein gungunata hua raaaz
    narmiyon mein ghula hua meri dhadkano sa ehsaas……teri awaaz
    Aansoon ke samander per chalta huaa jahaaz……teri awaaz
    ©dard786

  • mahaksharma 52w

    जो रखती हो ख़बर सबकी तुम
    ए ज़िंदगी तुझे अपनी ख़बर है क्या!
    जो करती हो सबका एतबार तुम
    वो सब तुम्हारे एतबार के काबिल हैं क्या!




    ©mahaksharma

  • thetwistedwhisper 63w

    Ghutan si hone lagi hai mujhe unn awazo se,
    Mere mann ko maar diya inn ummedon ne.
    Ab toh bas chod dena chahti hu unn bunne hue sapno ko,
    Jinke liye sajja k rakha tha iss dil k darwazo ko.

    ©thetwistedwhisper

  • divs_1799 86w

    Kon janta hai us khamoshi ��ke piche ka karan...
    Kisse pata hai kyu hai woh chuppi ?
    Bas introvert �� bolkar kaam assan kar diya.
    Na ab kisiko bahana dene ki zanzhat;
    Nahi kisiko kahaniya samjhane ki��mehnaat!!!

    Par koi toh hoga jo samjhege usse :/
    Yahi hoti thi bas uski 1️⃣ek chahhat :)
    Har ek 11:11 ��ki wishes waste kardi,
    Un sarro ke smiles ke liye...��
    Kya karre kabhi nafrat karni hi nahi sikhaie kisine!!

    Socha bade shehro��️ mai rehkar,
    ban jaunge un jaiso ki tarah!!!
    Par kya karre awaz ��tohde di ...
    Bolna ℹ️ab tak sikhaya nahi!!!
    Humesha dusro ke liye sochte sochte..
    Kabhi apne app�� ko bhul jana mano ek addat si ho gayi thi :/

    Ab toh bas imagination wali duniya ��
    Sabse achi�� lagti thi.....kyukiiiiiii.......
    Haan, WAHHA MAI MAI HOTI THI KOI AUR NAHI.



    #pod #mirakee #everyintrovert #11:11wish #awaz #nozhanzhat #nomehnat #nonafrat #badeshehhar #imaginationwaliduniya #lifestory #maimaithi #koiaurnahi

    Read More

    kyuki...WAHHA MAI MAI HOTI THI
    KOI AUR NAHI

    (Read caption)

    ©Divs1799

  • dushtlonda 89w

    Roka nhi

    Kbhi kisi n roka nahi, Kbhi koi ruka nahi
    Log milte rahe, Log bichadte rahe.
    Kuch hmari njr s uthe, kisi ki njr s hm utrte rahe.
    Hmm yu hi chate rahe.

    Kuch haseen shame beti, Kuch haseen lamhe bete..
    Rukne ka mn tha, Pr unse roka na gya
    Rokne ka mn tha, Prr unko roka na gya

    Syd awaz hmne kisi ko di thi, Prr roka nhi
    Syd isliye nazar andaz krdiya gya
    Dill unka smjhdar tha, Kafi dimagdar tha..

    Syd awaz kisine hm ko di thi, Prr roka nhi
    Syd isliye nazar andaz krdiye gye
    Dill hmara smjhdar tha, Kaafi dimagdar tha...

    Kuch haseen log h abhi zindagi mai
    Rukne ka mn bhi h, Pr unse roka na jaega
    Rokne ka mn bhi h, Pr unko roka na jaega

    Guzarish toh thrne ki hai, Kuch sune, sunane ki hai.
    Prr likha nasib m h safar toh kya kre.
    Adat jab bachpan s chlne ki h toh ruk k kya kre.
    Fiza y beragi hai, ab safar hi sathi hai...

    ©dushtlonda

  • shivamnathvimal 96w

    क्यों ?

    पता तो था तुम्हे ... की तुम कहानियों में हो ..
    और झूटी .. कभी पूछा ही नहीं सच ...
    पता नहीं क्या जवाब देते तुम ...
    इसलिए मैंने बताया है नहीं ...
    ©word_pixel

  • sbaryan 97w

    Awaaz

    Hai awaz ak Chupi si. dabbi si, an suni si.
    Kabhi aa. Koi baat kar. Us awaz ko, ab azad kar.

    Hain faasley jo darmiyaan me, ye rukawaten or khalal ye
    Koi qadam utha, koi raah chun. in faaslon ka ikhtitaam kar.

    Hai dard ab na qabil e bardasht, yeh zakhm or takleefen
    Ab hath barha, koi marham laga. Is azmaish ka anjaam kr.

    Hai dar in honton me, qed se mar na jae bezaar awaz ye
    Kabhi aa. koi baat kar. Is awaz ko, ab azaad kar.

    Hai koi majboori, ya hai koi khalal bata mujhe
    Q chup chaap hath bandhe khara hai, kuch to izhar kar

    Kya meri khushyan tujhe kuch bhaati nahi, kya meri tujhe koi parwa nahi
    Rachle be parwahi k dhong jitna chahe, khush tu bhi na reh paega mujhe zinda maar kar

    Alfaz to buhut hain bayan karne ko, magar ye baat alfazon se bayan krne ki nahi
    Khatam kar raha hun yahan me apni pukaar,
    Ab tu kuch irshaad kar.

    -Muhammad Shahzaib
    ©sbaryan

  • lifeistooochota 99w

    Three phase of boys :
    Mother
    Wife
    Daughter

    #life #love #boy #payal #awaz #wife #mother #daughter #musing #mirakee

    Read More

    Life of a Boy

    Pehle Maa ka payal ki awaz sa ma uth jata tha,
    Phir Meri biwi ka payal ki awaz sa ma uth ta tha
    Ab Meri Beti ka payal ki awaz sa ma uth ta hoon

    ©lifeistooochota

  • kiansh_ 99w

    Dastak aur awaaz toh
    kaano ke liye hain,
    Jo rooh ko sunayi de use khamoshi kehte hain....
    ©kiansh_

  • mlmwanishamishra 103w

    हालात

    ग़जब की हालात हैं , ख़ुदा
    बिन कहे अन्दर सब कुछ मिलता हैं तो बाहर कटोरा लेकर कोई आवाज़ देते थम से जाता हैं ।
    ©mlmwanishamishra

  • peacefull_soul 109w

    diwali

    Bahar ke andhkar ko to diye jala kar mita diya,
    Magar maan ke andhkar ko mita na saka.
    Patake ki shor ne to raat ke sannate ko chir to diya,
    Magar khud ki awaz khud ko hi nahi sunna paya.
    Kuch to tha jo reh gaya ankaha aur ansunna.
    ©peacefull_soul

  • quraishi_creation 113w

    Muskil sawalo ka jawab kaise diya jae
    Tere awazo ke bina bhala kaise zinda raha jae..
    Tu kehti bhool jao bade asani se,
    Bhala tere beqair Zindagi kaisa guzara jae
    ©quraishi_creation

  • janabshayar 114w

    Khamoshi

    Wo to awaz hai meri jo logo ko sunai deti hai Warna jo mujhse samajhta hai andar ka toofan wahi dekh pata hai..
    ©banti_brahman