#antra

7 posts
  • goldenwrites_jakir 1w

    अंतरा ✍️

    मेरे ज़ज़्बातों कि _____^ तू ही तो कहानी लिख रही
    दिखाकर ख़्वाब मोहब्बत के तू ही तो आशिक़ी लिख रही
    तुम हो तो मैं हूँ ---- तू नही तो मैं भी नही
    ये आरज़ू दिल की हमारी मोहब्बत लिख रही
    मेरे ज़ज़्बातों की तू ही तो कहानी लिख रही ....
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 8w

    दिल गुनगुनाता

    कुछ पल ठहर जा जरा "दिल की गलियों में मेरे यारा
    इश्क़ की मद्धम - - - - मद्धम हवा चल रही है
    दिल बेताब है धड़कने रुक सी गई - जुबां पर नाम है तेरा
    कुछ पल ठहर जा जरा "दिल की गलियों में मेरे यारा
    कुछ पल ठहर जा -- कुछ पल ठहर जा जरा दिल की गलियों में मेरे यारा मेरे यारा ---- याराअअअअअअअअअअ
    ^^^^^^❤^^^^^^^❤^^^^^^❤^^^^^^❤^^^^^^❤
    आसमा पर छाए काले बादल - सूरज करता लुका छिपी
    वक्त ना तेरे ना मेरे बस में - आज हम यहां कल ना जाने हम कहां
    बरसो तलक किया इंतज़ार - लगता दिल ऐसे
    कल तो मिले थे पर लगता दिल को जैसे हम बिछड़े कुछ ऐसे
    कुछ पल ठहर जा जरा " दिल की गलियों में मेरे यारा
    मेरे यारा मेरे यारा ---- याराअअअअअअअअ
    ^^^^^^❤^^^^^^❤^^^^^^^❤^^^^^^❤^^^^^^❤
    देखता में रहु तेरी आँखों में - दुनियां की
    हर इक ख़ुशी गम की ज़िन्दगी
    तुझसे ही ये दिल की धड़कन बातें करे
    सज़ा दूँ तेरे ख़्वाबों का आसमा
    मोहब्बत के घर आँगन में
    वो इबादत मैं तेरी करूँ
    तेरी बाहों में मेरी सुबह शाम ये ज़िन्दगी
    तेरी अमानत बनकर गुजर जाए
    लिख तू हमारी ऐसी कहानी मेरे याराअअअअअअअ
    कुछ पल ठहर जा जरा " दिल की गलियों में मेरे यारा
    मेरे यारा मेरे यारा याराअअअअअअअअआआआआआ ❤
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 14w

    अंतरा

    कुछ तो वजह " दे जा जरा फिर जीने की
    कब तक ये दिल आंहे भरे - कब तक ये दिल तन्हा रहे
    कब तलक हां हां हां कब तलक ये दिल यूँ ही रोता रहे
    कुछ बजह दे जा जरा --- कुछ बजह फिर जीने की दे जा जरा
    दे जरा दे जरा दे जा जरा ----- दे जा जरा ......
    ©goldenwrites_jakir

  • goldenwrites_jakir 14w

    अंतरा

    इक बात बताऊँ दिल की - ये दिल तुम्हे याद करता है
    धड़कता है ये तुम्हारा नाम लेकर - तुम्हे अवाज़ देता है
    तुम्हे अवाज़ देता - तुम्हे अवाज़ देता है --- तुम्हे याद करता है तुम्हे याद करता इक बात बताऊँ दिल की ये दिल तुम्हे याद करता तुम्हे याद करता है .....
    तुम्ही हमसफर तुम्ही दुआ दिल की - तुमसे ही हर इक ख़्वाब है
    तुम्ही बजह जीने की तुम ही दिल की हर इक धड़कन हो
    तुम बिन ज़िन्दगी अँधेरी सुबह - तुमसे ही रौशन मेरी ज़िन्दगी है
    इक बात बताऊँ दिल की - ये दिल तुम्हारा है ये दिल तुम्हारा है..
    ©goldenwrites_jakir

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 41w

    अंतरा

    मुझे कुछ nhi बस तू चाहिए
    ये मेरी नही दिल की चाहत है बस तू चाहिए
    तू ही मेरी ख़ुशी तु ही ज़िन्दगी तू ही आज तू कल मेरा
    वो साथ तेरा मेरे हमसफर ज़िन्दगी भर चाहिए
    Jis ख़्वाब में तू है वो नींद चाहिए
    मुझे कुछ नही बस तू चाहिए ये मेरा नही दिल की चाहत है
    बस तू चाहिए बस तू चाहिए बस तू चाहिए ।।
    ___________________________________________
    इक पल भी ये दुरी ये तन्हाई दिल को कबूल नही
    तुम बिन में अधूरा खामोश इन लम्हो से मुझे रिहाई चाहिए
    दिल में है हजारों ख्वाइसें वो आसमा वो तेरा अांचल चाहिए
    मुझे कुछ नही बस तू चाहिए
    लिखूं में तुझे वो नज्म वो गज़ल का आईना चाहिए
    ज़िन्दगी के सफर में हमसफर मुझे तुम्हारा साथ ज़िन्दगी भर चाहिए
    ये मेरी नही दिल की चाहत है बस तू चाहिए ।।
    ______________________________________________
    ©goldenwriteszakir___

  • thatimmaturepoet 163w

    Ye Kya Hogaya Hai..?

    Ye kya tha, kya se kya hogaya hai,
    Mera desh Bharat se, India hogaya hai,
    Mana ki unnati bhi jaruri thi Kahi,
    Par shayad is unnati se Jada kuch pichda ho Gaya hai,
    Shehar kuch jyada vyast hochuke hai
    Gaon or bhi jaada past hochuke hai
    Kuch theek hi kaha hai kehne wale ne
    "Ae sadak tum ab aayi ho gaon mein,
    Jab gaon hi saare ast chuke hai"
    Jaha 'Freedom of speech' samvidhan hai aaj bhi
    Waha intolerance ka bol bala hogaya hai
    Mera Bharat jo kabhi cham chamata' tha,
    Waha "Dharm" "Jaati" ke chakkar mein sab kaala hogaya hai
    Is sone ki chidiya Ko to luta bahar waalo ne,
    Par ab ghar mein bhi lootero ka paala hogaya hai,
    Mera desh kya tha, or aaj bas toote motiyo ki maala hogaya hai!
    Aurat ko Devi maana jata hai yaha
    Durga Puja, Navraatre Ko chalan hai jaha,
    Waha aurat ka shoshan, utpeedan itna aam hogaya hai,
    Sharamsaar hai desh 'Me Too' ke kisso par
    Or fir bhi is 'Me Too' ka bada Naam hogaya hai!
    Mere Desh jo kabhi sarv sresht tha,
    Aaj bada badnaam hogaya hai,
    Kya socha tha hoga, or kya ye kaam hogaya hai!

    ©immaturepoetammy

  • thatimmaturepoet 164w

    Kyu hoke bhi,
    Tu mujh se juda,
    Kuch mujh mein tu rehgaya,
    Mein mujhsa, ab na raha sanam,
    Par tu mujhsa hogaya,
    Shayad ye jo dor hai,
    Tere mere darmiya ki wo,
    Tute na ye chutte na saath tera mera
    Kyu hoke bhi,
    Tu anjaan sa,
    Dil ke kareeb aagaya,
    Jab dekha tujhe sirf ek hi baar,
    Kyu aankho pe tu chaa gaya
    Shayad ye jo dor hai,
    Tere mere darmiya ki wo,
    Tute na ye chutte na saath tera mera!

    ©immaturepoetammy