#Zindgi

1034 posts
  • night_mist_ 3w

    Zajbaat

    hum me hunar nahi apne zajbaat zaahir karne ka , dil gamgeen aankhen namm hoti hai or kalam waraq pe halaat-e- zindgi bayaan karne lagte hai
    ©night_mist_

  • montyjaat 3w

    तू कहे

    तू अगर इजाजत दे तो दुनिया का हर एक शब्द तेरे लिए लिख जाऊँ
    तू कहे तो मौत को भी पीछे छोड़ आऊ
    ना जाने कैसी ये कस्माकस हैं नफरत भी हैं प्यार भी हैं और तकरार भी हैं
    मगर फिर भी दोनो अनजान हैं ये जिन्दगी तेरे नाम हैं।
    ©montyjaat

  • montyjaat 5w

    बदकिस्मत इंसान

    ना पूछो हालात मेरे दर्दा की दुःखी नगरी का सुल्तान हूँ में
    ना खोल मेरी जिन्दगी के पन्नों को जिन्दा सा एक मरा हुआ इंसान हू में
    जो एक बार उजड के नही बस पाया किसी दे पीछे
    वो बदकिस्मत इंसान हूँ में जो गलता-गलता गल गया बस नाम दा इंसान हूँ में!
    ©montyjaat

  • mysterysmile 5w



    Badltey Badltey
    Badla sab
    Khushi ki rah me
    Zindgi gum ho gi
    ©mysterysmile

  • sumitsoni85 6w

    फिर कभी करेंगे तुझसे, ज़ख्मों का हिसाब ज़िंदगी.

    अभी ज़रा मसरूफ हैं हम, मरहम की तलाश में.

    ©Sumit Soni

  • ashish_suman 7w

    Aashiyana

    Ye dil dhoonde aashiyana ....
    Ye dil dhoonde aashiyana...
    Jab se tu mila ye tere bare me hi sochta rhta
    Na jane kb mile iski aashiyana
    ©ashish_suman

  • dnswords 8w

    तो जिंदगी बदलोगे कब?


    Sukh me हम samjna nahi jaante ,

    Dukh me हम samaj nahi sakte


    ©dnswords

  • shubham_rai2104 9w

    ऐ ज़िंदगी
    पता है अरमानों में तुझे लूटा दिया है
    भरोसा रख दोस्त, वादा है ख़ुद को तुझ तक
    समेट दूंगा एक दिन ।।

    - शुभम राय

  • pushp_harshwal 11w

    क्यों डरे इस बात से की
    जिंदगी में क्या होगा...
    कुछ ना भी हुआ तो
    तजुर्बा तो होगा...
    ©pushp_harshwal

  • chavdamohit18 12w

    Lamho ki zindgi

    Kuch lamho ki zindgi yuhi bahe jayegi ,
    Haath me to ret si yaade rahe jayegi.
    ©chavdamohit18

  • proton 13w

    Safar zindgi ka.....in kitabi batoon se kahi alag hai
    #safar #zindgi #manzil #trip #moksh

    Read More

    SAFAR ZINDGI KA

    Aap apna waqt in khoobsurat raaho me kharab na keejeye
    Shayad usse bhi khubsurat manzil apke intezar me ho.

    Ha Maana kaehte hai safar khoobsurat hai manzil se bhi.
    Lekin rukha manzil pe jata hai rahon me nhi . ..


    ©proton

  • mnu_143 14w



    Me apna mukabla kisi se nhi krti
    Muz pta h me jesi hu acchi hu
    ©mnu_143

  • allaboutlife7 14w

    Kaagaz aur kalam ka bakhaar

    Kaagaz aur kalam ka bakhaar !
    Tune shabdo ko piroya apni kalam se aur bhara mere jeevan me yaado ka bhandaar.
    Pr tu syaahi kya udhel raha h ab is tuti kalam me...
    Tu syaahi kya udhel raha h ab is tuti kalam me...
    Jab mujhpr pr padte he likha hua bhi hojana hai sab barbaad.
    ©allaboutlife7

  • milanrdave 15w

    सही, गलत, कुछ नहीं...
    तेरे लिए, तू सही... मेरे लिए, मे सही..|

  • abhidilse 16w

    गजल

    चली तो जा रही मगर कश्मकश में
    जिंदगी तेरा सफर बड़ा आशिकाना है

    कभी धूप कभी छांव है मगर
    हर मौसम यहां लगता बड़ा सुहाना है

    कोई भी नही मिलता है विला मतलब के
    हर चेहरा जबकि लगता जाना पहचाना है

    हवाओं का भी मिजाज पढ़ा है मैंने 'अभय'
    कहां एक ही रुख से इन्हे बहते जाना है

    काफिले में साथ साथ तो मेरे थे बहुत
    ऐसा नही लगा की कोई रिश्ता पुराना है

    सांस है आश की किरणे तो जगमगाएगी
    कब टूट जाए डोर ये किसने जाना है

    मैं अपनी मंजिल ढूंढता रहता हूं
    मुझे खुद का मिलता नही ठिकाना है

    तू ही बता दे अब ओ मेरे रब्बा!!
    सुनते है ये जिंदगी तेरा ही शुक्राना है
    ©abhidilse

  • creative_chanchal 17w

    फिक्र

    फिक्र-ए- जिंदगी
    कब तक फिक्र में रहेंगी?
    कभी तो बेफ़िक्री दिखा!!
    ©creative_chanchal

  • jokerjoker 17w

    पुरानी हो गई है ये तस्वीर
    चेहरा धुंधला हो गया है, जैसे
    कोहरे ने उम्र की चादर बिछा दी हो

    होंठ सूखे से लग रहे हैं, मानो
    नदी के किनारे प्यासे हों
    जज्बातों के समंदर में अब
    ज्वार-भाटा बस कहानी हो गए हैं
    पुरानी हो गई है ये तस्वीर.....

    ©jokerjoker

  • rahat_samrat 19w

    ✍✍

    दो शब्दों से नजदीकियां दो शब्दों से ही दूरी हो जाती है,
    किसी की उम्मीद अधूरी किसी की आस पूरी हो जाती है।

    महज कुछ वक़्त की ही सजावट होती है उन बातों में ,
    किसी की जुबाँ मिश्री तो किसी की चुभती छूरी हो जाती है।

    बेगुनाही का दौर आया दौड़कर और कहता क्या है सुनिये,
    गुनाहों की सजा में गलतियों की भी मजबूरी हो जाती है।

    पास बैठकर धीरे से कुछ कहने की कोशिश करता है दिल,
    पर सामने देख उसे सहेजी हुई बातें अधूरी हो जाती है।

    परिवार और प्यार का बंधन किसी एक से जुदाई है मालूम,
    हाँ इसलिए बेटी के लिए बेटी की बिदाई जरूरी हो जाती है।

    गिनना आता नहीं मजबूरी को शायद रोटियों का मोल राहत,
    जिनके खातिर पूरे दिन उन मासूमों की मज़दूरी हो जाती है।

    ©rahat_samrat

  • aznabi_0 19w

    प्रेम(love)

    नफ़रत के सहारे ज़िन्दगी के
    दो क़दम चल सकते हो

    ज़िन्दगी के चार कदम तय करने में
    प्रेम की ज़रूरत होगी तुम्हें।

  • ashupriyaa 19w

    #poetry #life #motivation #zindgi
    #follow me if u are as me ❤️

    Read More

    इतिहास।

    उलझने बढ़ती गई , में झेलता गया
    वक्त ने मैदान में उतारा, में खेलता रहा।
    लोग कहने लगे, तू पागल हो जाएगा,
    में सुनता रहा
    लोगो की बातों को मन में दबाए,अपने सपने बुनता रहा
    लेकिन कैसे बताऊं लोगो को,की जब ये वक्त बदलेगा
    में नही मेरा विश्वास बदलेगा,
    फिर ये पागल इन लोगो को नही,
    इतिहास बदलेगा।
    ©ashupriyaa