#14thnov_2021

1 posts
  • krati_sangeet_mandloi 10w

    संघर्ष

    संघर्ष वास्तविक हर्ष है, संघर्ष बिन जीवन व्यर्थ है,
    संघर्ष ही यथार्थ है, इससे होता जीवन कृतार्थ है।

    भाग्य भरोसे बैठने से, नहीं है कुछ भी मिलता,
    नित तपता है अग्नि में, तब कंचन रूप है मिलता।

    सहज-सरल जो मिल जाए, वो तो भीख समान है,
    परिश्रम करके प्राप्त हो, उसमें ही निहित सम्मान है।

    जीवन यात्रा में, राह की बाधाओं से लड़ना पड़ेगा,
    अंतः साहस जगा कर, कर्म-पथ पर चलना पड़ेगा।

    चंद श्वासों में क्या पता, जीवन कब सिमट जाएगा,
    सुखों की इच्छा में, अंत में पश्चाताप लिपट जाएगा।

    भय को त्याग, प्रबल इच्छा को लेकर गतिशील हो,
    उतार-चढ़ाव तो आते रहेंगे, प्रण संग प्रगतिशील हो।

    लक्ष्य पाना है तो, शूलों पर गौरवमय लेख लिख दे,
    संघर्ष से पार, सुखद कथा के अभिलेख लिख दे।

    जीवन को कर दे सार्थक, संघर्ष एकल विकल्प है,
    जब संघर्ष संग हो मैत्री, तब आवश्यक संकल्प है।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (30-5-2021)✍️ (14-11-2021)