Grid View
List View
Reposts
  • ek_ehsas 25w

    ऐ मेरे हमसफ़र ...

    जो बढ़ाया तूने हाथ, सहारा मिल गया
    तूफां से लड़ती इक कश्ती को, किनारा मिल गया

    ©ek_ehsas

  • ek_ehsas 25w

    बस यूं ही

    कृष्ण सा सारथी ढूंढ़ते हो
    मिल जाएंगे
    पहले तुम अर्जुन से हो जाओ

    अंधकार है
    छंट जाएगा
    बस तुम दीपक से हो जाओ

    ~ सुमित

  • ek_ehsas 25w

    Sonnet LXVI:

    I do not love you except because I love you;
    I go from loving to not loving you,
    From waiting to not waiting for you
    My heart moves from cold to fire.

    I love you only because it's you the one I love;
    I hate you deeply, and hating you
    Bend to you, and the measure of my changing love for you
    Is that I do not see you but love you blindly.

    Maybe January light will consume
    My heart with its cruel
    Ray, stealing my key to true calm.

    In this part of the story I am the one who
    Dies, the only one, and I will die of love because I love you,
    Because I love you, Love, in fire and blood.

    ~Pablo Neruda

    Read More

    ~ Pablo Neruda

  • ek_ehsas 26w

    Le pakau: How you seem to be happy always?
    Le me: By trying to avoid unnecessary arguments

    Le pakau: How do you do that?
    Le me: Once you've realised you've run into a stupid, just put an end to the conversation by saying: You are right

    Le pakau: Wouldn't this make people even more confident
    Le me: Not everyone but stupids

    Le pakau: This way they can make you get agreed on almost anything
    Le me: Yes, if that's what they think

    Le pakau: So what you are saying is any stupid people can defeat you on any topic if they just kept on arguing ?
    Le me: Umm...hmmm

    Le pakau: This is plain stupid !!
    Le me: You are right ��

    ------------------------------------ The end ---------------------------

    ©ek_ehsas

    Read More

    एवईं

    -------- Secret to my eternal happiness ------
    ©ek_ehsas

  • ek_ehsas 26w

    बस यूं ही...

    अरसे बाद इस बगीया में
    बहार-सी फिर छाई है
    पतझड़ ने कभी था
    जिसमें बसेरा कर लिया

    ©ek_ehsas

  • ek_ehsas 27w

    I don’t love you as if you were a rose of salt, topaz,
    or arrow of carnations that propagate fire:
    I love you as one loves certain obscure things,
    secretly, between the shadow and the soul.

    I love you as the plant that doesn’t bloom but carries
    the light of those flowers, hidden, within itself,
    and thanks to your love the tight aroma that arose
    from the earth lives dimly in my body.

    I love you without knowing how, or when, or from where,
    I love you directly without problems or pride:
    I love you like this because I don’t know any other way to love,
    except in this form in which I am not nor are you,
    so close that your hand upon my chest is mine,
    so close that your eyes close with my dreams.

    ~ Pablo Neruda

    Read More

    I love you as ....

    I love you like this because I don’t know any other way to love

  • ek_ehsas 27w

    Eternal Warriors

    The two most powerful warriors are patience and time.
    ~Leo Tolstoy

  • ek_ehsas 27w

    वो भी क्या वक्त था
    सायबान जब
    नीम का इक दरख़्त था

    कदम भले थे छोटे
    मगर आसमां अनंत था

    हथेलियां नन्हीं सहीं
    पर हौसला बुलंद था

    जेबें थी ख़ाली मगर
    मेला हर तरफ था

    मोबाईल केबल से परे
    हाकी कबड्डी का वो
    आलम ज़बरदस्त था

    आर्गेनिक का तो पता नहीं
    पर हां, अमियां के हर बाग पर
    बच्चे बच्चे का हक़ था

    अपनों का तो कहना ही क्या
    गैरों के लिए भी वक़्त ही वक़्त था ...
    सायबान जब नीम का इक दरख़्त था

    ~सुमित

    @rangkarmi_anuj @hindinama @_j_s_k_ @rangkarmi_anuj @aparna_shambhawi @gunjit_jain @mamtapoet @chahat_samrat @banduke_ji @alkatripathi

    Read More

    बात बीते वक्त की...

    वो भी क्या वक्त था
    सायबान जब
    नीम का इक दरख़्त था

  • ek_ehsas 28w

    @rangkarmi_anuj @aparna_shambhawi @gunjit_jain @jigna___ @mamtapoet @chahat_samrat @banduke_ji @alkatripathi

    सपने में सही,
    मिलना चाहता हूं उससे एक बार,
    महसूस करना चहता हूं
    उसके हाथों का स्पर्श

    जब जिंदगी की गोद से उतार
    वो मुझे अपनी बाहों में ले जाएगी,
    कुछ वैसे ही जैसे एक मासी
    सोते बच्चे को मां की गोद से अपनी गोद में ले ले

    देखना चाहता हूं
    क्या याद रहता है उन आखिरी पलों में,
    किससे माफी मांगने का और
    किसे माफ़ करने को दिल चाहता है

    क्या ज्यादा खलता है,
    वो गलत जो किया
    या वो सही
    जो नहीं किया

    कहते सुना है सबको,
    आखिरी पलों में पूरी जिंदगी
    गुजरती है, आंखों में
    एक कहानी बनकर

    क्या होगा किरदार मेरा
    अपनी ही जिंदगी में
    रहूंगा एक अतिरिक्त, अतिथि, पाहुन
    या जान हथेली पर लिए इक दीवाना

    क्या महसूस होता है राह के उस छोर पर
    ऐसा मुसाफिर जिसने रास्ते का हर पल जिया
    या फिर वो जिसे पहले स्टेशन पर ही नींद लग गई
    और जब आंख खुली तो सफ़र ही पूरा हो चुका था ...

    जाना तो सबको ही है एक दिन
    इसमें कोई नई बात नहीं
    पर मरने से पहले कुछ जिया भी या नहीं
    बस एक बार ये जानना चाहता हूं

    ~सुमित

    Read More

    Before it's too late....

    Some people never go crazy. What truly horrible lives they must lead
    ~ Charles Bukowski

  • ek_ehsas 28w

    कच्ची उम्र

    कच्ची उम्र में अक्सर
    मन मचल ही जाता है

    लाख सम्भालो इस राह
    पांव फिसल ही जाता है

    क्या करे क्या कहे ही
    इस दिल से कोई

    जब कहने सुनने को भला
    कुछ रह ही नहीं जाता है


    ~सुमित(ek_ehsas)