dr_seema

www.instagram.com/p/BwRSkrzhnfW/?utm_source=ig_

kabhi apna dard to kbhi dusro ka marj likhti hu,peshe se doctor hu bas har jgah dawa likhti hu

Grid View
List View
Reposts
  • dr_seema 106w

    आज नहीं तो कल मिलोगे मुझे,मुझे ये यकिन है,

    हाँ मगर उस यकिन और मेरे बीच बहुत से पर,मगर और लेकिन है।
    ©dr_seema

  • dr_seema 107w

    न जाने ऐसा क्या रिश्ता है मेरा खुदा से ,
    के जो दुआ खुद के लिये माँगू कोई, तो बद्दुआ बन कर मुझ तक पहुंचती है,
    और जो मांग लूँ किसी और के लिये खुशियाँ,तो वो मेरे हिस्से से कटती है।
    ©dr_seema

  • dr_seema 108w

    यूँ तो तन्हा हमेशा ही रहती हूँ, पर कभी-कभी तन्हाईयों का बोझ अचानक बढ़ जाता है,

    तब फोन की सारी contact list तलाशती हूँ, पर जिससे दिल की बात बेझिझक कर सकूँ,अब ऐसा कोई भी नाम नज़र नहीं आता है।
    ©dr_seema

  • dr_seema 108w

    तस्वीर न होती तुम्हारी जो मेरे पास में कोई,मै भला फिर किससे इतनी बात करती,
    दिन भर तो कंरवाँ साथ चलता है,बोलो भला कैसे मेरी रात कटती।
    ©dr_seema

  • dr_seema 108w

    गाल लाल,आँखे शर्म में थोड़ा झूक सी गई थी,
    दिल की रफ्तार और जिस्म में कपकपी बढ़ सी गई थी,
    लड़खड़ाते अल्फाज़ो को बड़ी मुश्किल से उस रोज मैंने संभाला था,
    ये तब की बात है जब उन्होंने पहली बार मेरा नाम पुकारा था।
    ©dr_seema

  • dr_seema 109w

    hey santa! please bring
    this year him for me,
    i also deserve some happiness but that only comes when me and he will be we,

    you fill everyone's wish,why shouldn't mine,
    2020 is all up to you plzz take your time,

    i want him beside my side forever,
    please atleast ask him to make me wet from his love of shower

    how much i do love him you know it very well,
    please make him realise same for me so that he can atleast tell ,

    hey santa! no one can make my this wish come true except you,
    so please please bring him till next year with you.
    ©dr_seema

  • dr_seema 109w

    बन जाये वो कभी राँझा मेरा,मैं कहलाऊँ कभी उसकी हीर,
    अम्रत पान किसे करना है,मुझे तो बस चाहिये उसकी जूठी खीर।।
    ©dr_seema

  • dr_seema 109w

    collab with @anushka_singh_panchhi
    i hope you will like it

    Read More

    वो ज़माने से नहीं डरते, शायद खुद की आदतों से थोडा मजबूर हैं,
    कहीं खुदगर्ज़ी में फिर मुझे तोड़ न दें, बस एक इसी बात से रहते वो मुझसे आज कल दूर हैं ।
    ©dr_seema

  • dr_seema 109w

    मैं ऐसी किसी भी दावत में नहीं जाती ,जिसमे खाने को उसका जूठा नहीं मिलता,
    मिलने को मिल जाते हैं कुछ सच्चाई की मूर्त हर महफ़िल मे मुझे,
    पर जिससे मिलने ख्वाहिश है दिल में मेरे बस वही एक झूठा ही नही मिलता।
    ©dr_seema

  • dr_seema 110w

    ये अचानक इतनी सर्दी क्यों बढ़ गई है ,
    क्या तेरे जिस्म की गर्माहट रक़ीब के जिस्म से फिर मिल गई है,
    ये हवायें अचानक अपना रूख क्यों बदल रही है,
    क्या रक़ीब तेरे नाम के सिन्दूर के साथ-साथ, तेरा उसके होने के गुरूर से भी सवर रही है।
    ©dr_seema