dipsisri

ig:- dipsi_srivastava Have you seen love in eyes?

Grid View
List View
Reposts
  • dipsisri 17h

    दो व्यक्तियों में एक जब भी रूठता है तो दूसरा मनाने आता है।हमारे बीच रूठने वाले तो हम ही हैं और सॉरी बोलने में तो आप वैसे ही माहिर हैं अपनी पपी आइज दिखा कर हमें मना लेते हैं।अब आज आप रूठ गए हैं और भई आपको कैसे मनाएं ये हमें सूझ नहीं रहा है।

    //प्यार तुम्हें कितना करते हैं
    तुम ये समझ नहीं पाओगे
    जब हम ना होंगे तो पिहरवा
    बोलो क्या तब आओगे
    मोरा सैयां...//

    ये गाना गा कर सुना दें तो शायद आप पिघल जाओगे वैसे आपको मनाना आसान है बस हम इतनी आसानी से मनाना नहीं चाहते हैं अब आप ही बताइए आपके लिए गाना गाया जाए या कोई कविता लिख दें।चलो दोनों ही कर देते हैं अब तुम हो भी इतने प्यारे तो इतना प्यार तो बनता है ना?❤ वैसे इतना पढ़ कर ही तुम पिघल गए होगा हमें यकीन है!

    *
    काहे ऐसे रूठे पिया,
    अब तो मोसे बोलो ना!
    तुम जो रूठे हो जग रूठ - सा गया है,
    अब मेरी प्रेम की छांव में आजाओ ना?
    प्रेम पत्र लिख दूं या कोई प्रेम गीत सुना दूं,
    तुम जो बोलो पिया मैं फूलों की बारिश करा दूं।
    सुबह की चाय भी फीकी लग रही है,
    मेरे कप से एक चुस्की तुम भी लगा लो ना!
    लिख दूंगी अनगिनत कविताएं,
    एक बार तुम जो खिलखिला दो पिया!
    अब तो मान जाओ?
    ऐसे यूं हमें बिन बोले सताओ न पिया!

    *
    क्यूं जनाब पिघल गए ना?��❤

    (पूर्णतः काल्पनिक है ये रचना इसका वास्तविकता से कोई संबंध नहीं है। किसी को मनाना है तो सुना देने कविता या कोई गीत पक्का मान जाएंगे)����

    Read More

    सुनो पिया?

  • dipsisri 5d

    दोस्ती करो मगर टॉक्सिक दोस्ती नहीं ❤

    Read More

    क्यूं हर बार जो हम असल में लिखना चाहते हैं वो हमसे छूट जाता है? जो उदासी हमें गले लगाकर सुबह विदा होती है वो शाम ढलते ही दुबारा दरवाजे पे दस्तक क्यूं देती हैं? उदासी जब पराई होती हैं तो उसके जाने की एक संभावना होती है मगर जब हम उससे दोस्ती कर लेते हैं तो वो हमारे साथ ही रहना चाहती है।क्या किसीने कभी उदासी के "उदास" होने का कारण पूछा है?क्या पता "उदासी" भी कोई लड़की हो मेरी जैसी जिसने बहुत इंतजार किया हो किसी का और फिर उसे लोग "उदासी" कह पुकारने लगे हो?मुझे उदासी से बहुत दूर जाना है मगर उसकी पक्की दोस्त बनकर मैं उसे यूं छोड़ आऊंगी तो वो कभी खुश नहीं रहेगी इसलिए मैं उसे करीब से जानकर उसे "मुस्कान" में बदल कर किसी रूठे बच्चे या एक लड़के के जीवन से मिला दूंगी। उस दिन ये दोस्ती भले टूटेगी मगर मैं खुद से जुड़ जाऊंगी।

    ~दीपसी

  • dipsisri 1w

    ________________________

    तुम थोड़ा मुझ-सा हो जाना,
    मैं थोड़ा तुम-सा बन जाऊंगी।
    बन जाना तुम काव्य मेरे
    मैं स्वतः प्रेम हो जाऊंगी।

    कभी-कभी तुम्हारी जंग का हिस्सा
    बनकर मैं लड़ लूंगी,
    तुम मेरे उस पन्नें को पढ़ लेना
    जिसे मैं आधे पे छोड़ आऊंगी।

    कभी-कभी तुम जब काम में व्यस्त रहोगे,
    मैं तुम्हें लगातार निहारती रहूंगी,
    मेरी नजरों से नजरों मिलते ही तुम
    मुझसा शर्म दिखा देना।

    कभी-कभी दफ्तर के कागज़ों
    पर हस्ताक्षर मैं कर दूंगी,
    तुम बस तवे पे रखी रोटी पलट देना।

    जब मैं काजल और बिंदी लगाकर आऊं,
    तुम बस मेरे माथे को चूम लेना,
    वो मेरे लिए शब्दों की तारीफ से ज्यादा सुंदर होगा।

    मैं तुम्हें पूरा सुन लूंगी,
    तुम बस बेझिझक मुझसे सब कह जाना।
    कभी-कभी मैं जब उदास रहूं,
    तो मेरे बगल अपने कंधे और कान को
    हौले से ला देना,
    तुम्हारे कंधे पर सिर टिका कर मैं
    अपनी सारी उदासी मिटा दूंगी।

    तुम कभी जो परेशान रहो
    बस मेरी इन आंखों में देख लेना,
    पूरी ना सही कुछ दिक्कतें जरूर मिट जाएंगी।
    जब कभी बारिश होगी
    तुम थोड़े बच्चे बन जाना,
    मैं ले आऊंगी धूप,
    तुम उसकी फिक्र मत जताना।

    मेरे काव्य में आके चुपके से छिप जाना,
    मैं ढूंढ लाऊंगी हर बार तुम्हें एक प्रेम कविता में।

    तुम कर लेना प्रेम हीर सा,
    मैं स्वयं रांझा बन जाऊंगी।

    ~दीपसी श्रीवास्तव
    ___________________

    Read More

    तुम थोड़ा मुझ-सा हो जाना,
    मैं थोड़ा तुम-सा बन जाऊंगी।
    बन जाना तुम काव्य मेरे
    मैं स्वतः प्रेम हो जाऊंगी।

    ~दीप

  • dipsisri 1w

    Be careful when you're falling for a writer.

    Be careful when you fall in love with me because I will write everything you'll make me feel.
    Be careful if you give me pain cause I may turn them into verses of poetries.
    Be careful if you are loving me I can write those words which are just inside your head and you've never said.
    Be careful when you are falling for a girl who can talk to moon for hours about you,
    A girl who can write infinite words for you,
    A girl who can compare your smile with the worlds seven wonders,
    A girl who can describe about you in the most romantic way possible.
    How your eyes are like the deepest ocean in which she wants to get drowned,
    How your hairs are like the soft paint brushes with she'll paint love for you,
    How your hands hold the warmth of care,
    How your one captivating smile melts her like a chocolate in sunlight?
    Be careful when you are hurting me because I don't hurt people I will just write about the sadness you gave me till my last breath.
    Be careful of what I feel for you because I may never tell you,
    I'll just turn you into my muse.
    Be careful when you're having conversation with me,
    I may turn your words into stories,your voice into a melodious song, your love into a poetry.

    Writer's don't only love they live with their love.❤

    ~D.S

    Ps:- It is dangerous and fascinating to love a writer at the same time.Got me?

    Read More

    Be careful when you're falling for a writer.

  • dipsisri 1w

    //घंटो तक एक सादे पन्नें को ताकते रहना,
    मन में चल रहे अनगिनत संवादों को सुन न पाना,
    चुप्पी में एकाएक आंखें भर जाना,
    इतना कुछ भीतर घटते हुए भी एक शब्द
    न लिख पाना,
    कितने असहाय हो जाते हैं हम कभी-कभी?//

    "रोने से आप कमजोर नहीं होते" कुछ लोग इस बात को मानते हैं।
    "रोना कमजोर होने की निशानी है" कुछ इससे सहमत हैं।
    अगर मेरी बात करूं मैं किसी के पक्ष में नहीं हूं। मैं अक्सर मूवीज के सीन देख कर रोती हूं,कभी कोई कविता पढ़कर और कभी कोई न्यूज सुनकर।मगर कोई अत्यंत दुख की बात हो तो मुझे रोना नहीं आता इसलिए बहुत लोगों को लगता है कि मैं भावनाहीन इंसान हूं क्यूंकि मुझे कठोर होकर "नहीं" कहने आता है और मैं किसी के सामने कभी नहीं रो सकती। किसी को इस बात का स्पष्टीकरण देना कि मेरे भीतर भी भावना है ये मुझे बिल्कुल नहीं भाता है।
    हम कविताएं लिखना नहीं चुनते है,कविताएं हमें चुनती हैं और मुझे शायद प्रेम ने चुना है।इस पूरे संसार की सबसे सुंदर भाषा "प्रेम" है इस भाषा में बस मौन उपस्थित होता है और इस मौन में बसता है "प्रेम"।
    रोने से ना ही आप कमजोर होते है और ना ही मजबूत होते हैं।
    "रोना" सबसे सरल है ये बस उन्हें ज्ञात है जो पहले कभी रो चुके हैं।

    ~दीपसी श्रीवास्तव

    Read More

    .

  • dipsisri 1w

    Hey you.

    I decided to stop writing for you but the reality is my every poem,words & writings belongs to you only.
    I never said this thing to you maybe this is why now I want to said this out loud now in infinite sky "I have loved you with all my heart".I was so used to be loved by you but now that you've left it kills me every single day.I just know this maybe now you've stopped loving me or the love faded away but there was a time you were so deeply in love with me.Remember! We used to listen to the same playlists.Whenever I see those songs it gives me reminiscences of 'You'.I am not even able to listen to them.I have cried every night thinking about us.Why it didn't last forever?I have lost my faith with this word forever now I just want with the people I am in the present moment I want to live this.One day they may also disappear like you did but it won't hurt anymore because the pain I had after your leaving can't be compared.I just want you to be happy wherever you are.I am not even angry with you I just worry about you.You don't have any idea how much I love you?It is alright if you're not aware of my love but writing this out makes me feel better that I have love you endlessly and will love always.I will never be able to forget about any little thing which is connected with you.And yes I miss you.

    ~Your Immature Girl.

    Read More

    To the boy I once loved.

  • dipsisri 2w

    An Unexpected Love Maybe.

    I never had an idea,
    That I will fall for you.
    But every second I can't
    Stop thinking about you.

    Past memories that used to haunt me,
    Nowadays have left me free.
    I can't stop daydreaming
    How can a person be so loving?

    Humming 90s love song's,
    Thinking about him but
    Nothing feels wrong.

    A thought of losing you
    Makes me cry,
    I don't know when exactly
    this badly I started loving this guy?

    It all feels so magical,
    It all feels so good,
    Sweety,
    YOU HAVE BECOME MY SELECTIVE ATTENTION.

    ~Dipsi Srivastava


    ��❤
    इश्क़ कीजिए फिर समझिए जिंदगी क्या चीज़ है!

    Read More

    Unexpected Love.

    Smiling like a fool all the time,
    Thinking about one same person,
    "Pehla Nasha" playing in the back of head,
    Living in romantic imaginations,
    Not worrying about any unnecessary things,
    Not scared of sleeping alone,
    Not crying on a same reason,
    Not having any bad flashbacks,
    Everything is gradually becoming beautiful.

    How right it feels to be in love?

    ~D.S

  • dipsisri 2w

    You entered in my life,
    healed me unknowingly with
    With what breakdown I was dealing.
    You become this reason that
    Again I started believing in friendship.
    You become this hope of mine to
    Still have faith for my loved ones.
    Without making any unnecessary promises,
    You've made me smile.
    You've helped me without even realising.
    I found my old lost smile in our conversations.
    I found more of myself,that I am still this girl who can love & smile freely.
    I adore this cute bond we have, don't you?

    Thank you Aaditya for unexpectedly becoming one of my best friend and for being almost like a human diary.

    I wanted to post this on your birthday but why to wait for a specific date when I can make ordinary day special?

    Sharma kar beohosh mt hona Okay ��❤
    @withahope ����

    Read More

    To a person who become one of my best friend unexpectedly.

  • dipsisri 2w

    Totally rant.
    @writersnetwork U just liked my post so chupke chupke you're reading hindi hmm?^_^❤

    Read More

    बहुत कुछ कहना था तुमसे...

    तुम्हें पता है शामें मुझे इतनी क्यूं पसंद है?
    क्यूंकि उनमें मुझे तुम्हारी छवि दिखती है
    कितने खूबसूरत हो तुम,
    कितने साधारण होकर भी कितने विशेष हो तुम,
    कितने मासूम हो तुम,
    बस सब कुछ आंखों के सामने दिख जाता है इन शामों में!
    मुझे प्रकृति से अधिक प्रेम तब हुआ जब मुझे तुम मिले,
    जिन-जिन चीजों से तुम प्रेम करते थे
    उन सारी चीजों से,
    तुम्हारे प्रेम में ही मुझे खुद से भी प्रेम हुआ
    जिसके लिए मैं शुक्रगुजार हूं!
    जिस तरह तुम मुझे अपनी आंखों से देखते थे
    कुछ वैसे ही अब मैं शामों को देखती हूं,
    कुछ प्रश्न,अत्यंत प्रेम और सुकून के साथ।
    हम हृदय के साथ जन्म जरूर लेते हैं
    लेकिन उस हृदय पे एक फूल तब उगता है
    जब हम प्रेम में डूब रहे होते हैं।
    तुम ये अक्सर पूछते थे न कि मुझे कभी याद करोगी अगर मैं कभी चला जाऊंगा?
    मैं बस मुस्कुरा कर टाल देती थी मगर आज बताना चाहती हूं याद हम उसे करते है जिसे हम कभी भूल जाते हैं,
    तुम मेरे अस्तित्व से बंधे हो,
    हमारे चेतना के धागे इतने भी कच्चे नहीं है
    कि मैं तुम्हें कभी भूल पाऊंगी..
    कोई भी मुझसे पूछता है "कैसी हो"?
    मैं बिना कुछ सोचे कहती हूं एकदम अच्छी!
    मगर जब तुम पूछते थे तो न जाने क्यूं तुमसे सब कुछ झट से कह देती थी और तुम सच में मुझे छोटे बच्चे की तरह समझा कर शांत कराते थे,
    तुम्हारे सामने मुझे बचकानी हरकतें करने में कोई झिझक महसूस ही नहीं हुई,
    और एक तुम ही मेरे भीतर के बच्चे को संभाल पाते थे।
    वैसे अब वो बचपना मिट गया है तुम जो नहीं हो अब,
    पता नहीं कब मैं इतनी परिपक्व हो गई कि उदासी भी अब मुझसे उदास रहती हैं मेरे पास आने से डरती है।
    खैर छोड़ो ध्यान रखना अपना और गेम खेलकर दुबारा चोट मत लगा लेना खुदको मैं डांटने नहीं आउंगी और ना ही मनाने।


    ~तुम्हारी लेखिका

  • dipsisri 3w

    // मेरे हर शब्द,हर भावना,हर पंक्तियों में सिर्फ एक चीज वास करती है भले नाम उसके दो है-"प्रेम" और "तुम"//
    ~दीपसी

    अब तो डर लगता है कोई शिकायत ना करने लगे कि ये लड़की कितना प्रेम लिखेगी अब क्या करे भीतर इतना प्रेम है तो लिखना ही यही पड़ता है।��❤

    @amateur_skm Bhaiya likh diye finally.��

    Read More

    तुम।

    प्रीत का बंधन जो तुझसे जुड़ा,
    मैं तेरे कण-कण में बस गई पिया।

    संपूर्ण जगत को भुलाकर मैंने
    सिर्फ तेरा एक स्मरण किया।

    तेरे नयनों से प्रतिबिंब होती
    कौमुदी ने मेरी आत्मा को मोह लिया,
    उसी क्षण मैंने समर्पण किया
    पूरे जीवन को तेरे नयनों में पिया।

    मुख पर बैठी मुस्कान ने मेरे शब्दों
    को चुराया है,
    अब उस चोरी का भी क्या दोष जो
    तू इतने आनंद से मुसकाया है।

    लिख कर तुझे प्राप्त होता है परितोष
    कुछ ऐसे तू मेरे हृदय में छाया पिया।

    मेरे हर शब्द में एक तू ही सिर्फ समाया है,
    ये कैसा प्रेम का संमोहन तूने मुझ पर फैलाया है?

    प्रेम ने मुझे जटिल नहीं सदा आसान बनाया है,
    मगर प्रेम में मिले प्रश्नों ने हमेशा मुझे फंसाया है?

    अन्तिम सांसों तक तुझे लिखने का वादा ईश्वर
    ने शायद मुझसे कराया है,
    ये "प्रेम है या या ईश्वर",ये कैसा प्रश्न दिखाया है?


    ~दिव्यांशी