Grid View
List View
Reposts
  • deepak1991 15w

    तस्सली

    मेरे पास सब होते हुए भी कुछ नहीं हैं,
    सब कहते है आप हंसते रहे
    सदा मुस्कुराते रहें।।
    पर जिनसे प्रेम करता हुं उन्हें खुश नहीं रख पाता,
    तो फिर मेरी खुशी किस काम की।।

    आज कल पैसों का मोल हैं,
    रिश्ते सब पैसे से ही बन रहे हैं।।
    इंसानियत शब्द की धज्जियां उड़ी पड़ी हैं,
    ऐसे में जीवन जीना कठिन हो गया है।।

    ऐसे हालात में प्रश्न उठता हैं की???
    इस जीवन को कौन संवारेगा,,,,
    कौन हमें सहारा देगा,,,,,
    बिखरी हुई जिंदगी को कौन समेटेगा,,,,,
    आसरा सब पर रखते हैं,,,,,
    पर घमंड किसी से नहीं।।
    क्योंकि जो ज़िन्दगी प्रभू ने मुझे दी हैं,,,,,
    बहुतों को वैसी ज़िन्दगी नहीं मिलती।।
    ©deepak1991

  • deepak1991 16w

    अनुरोध

    हे परमपिता परमेश्वर ये जीवन आपकी देन हैं।
    पर ऐसी ज़िंदगी जहां इंसान जीते-जी नहीं मिल पाता।
    वैसी जिंदगी के होने से ना होना ही बेहतर हैं।
    मेरे प्रभु मेरी इतनी-सी विनती सुन लीजिए,
    मुझे अपने शरण में ले लीजिए।
    जहां से मुझे कोई ना देख पाएं।।
    ©deepak1991

  • deepak1991 17w

    संगीत

    आत्मा से जुड़कर मुंह से बाहर निकलने वाली यह मधुर आवाज़ संगीत कहलाती हैं।
    संगीत प्रेमी इसके बिना नहीं रह सकता।
    कोयल की कूक, कृष्ण जी की बांसुरी की धुन सब के दिलों को मोह ही लेती हैं।
    सबके मन को प्रसन्न करती हैं ऐसी धुन।
    दिल इनकी ओर खींचा ही चला जाता हैं। मानो ऐसा प्रतीत होता है की बस इसे सुनते जाएं।
    संगीत मौसम, नज़ारों और कभी-कभी समय से भी उत्पन्न होती हैं।
    सच कहूं तो मेरा नाता इनसे काफ़ी पुराना हैं और अब ये मेरे जीवन का एक अंग हैं।
    हम इस जगत‌ में रहे या नहीं लेकिन ये संगीत सदा रहेगी।।
    ©deepak1991

  • deepak1991 17w

    मेरी प्रियकर

    बातों से कोमल, दिल की साफ़, विचारों से सुंदर
    ज्ञान से भरी हुई, साथ-ही-साथ कला से संपूर्ण हैं।
    संगीत की दिवानी, कहती अपनी कहानी हैं।
    रिश्ता निभाना और आगे ले जाना इन्हें बहुत अच्छी तरह आता हैं।
    प्रभु का बहुत-बहुत धन्यवाद.......
    इन्हें आज के दिन धरती पर भेजकर
    मेरी जिंदगी को इनसे जोड़कर संवारा हैं।
    यह मेरी जिंदगी, मेरा सब कुछ हैं।
    ©deepak1991

  • deepak1991 18w

    Prathna Puri Ho

    Mere pyare prabhu,,,,,
    Mere paapon ki shama kar......
    Aap daya ke sagar hai,,,,,
    Mujh par daya kar.......
    Me jinse prem karta hu aur jo mujhse jude hai,,,,,,
    Un sab ko sukhi kar.....
    Mera jeevan unse hi jod dijiye,,,,,,
    Me unke bina nahi jee Sakta hu.....
    Jaise paani se baahar aakar machli tadapta hai,,,,,,
    Thik waise hi mera jaan unse bina baat kiye tadapta hai........
    Mere dil ki pukar sun le mere param pita,,,,,,
    Yeh Beta aapse kuch maang raha hai niraash na kare prabhu........
    Meri Vinti sun lijiye parmeshwar....
    ©deepak1991

  • deepak1991 22w

    Housla Pyar Ka

    Bada mushkil haalaat hai yeh,,,,,,
    Yeh safar mushkilo bhari hai,,,,,,,
    Hai mera kya kasoor kya kya mere kismat me likha hai yeh,,,,,,
    Yeh mere seene me kaisa dil banaya hai tu,
    Jo chot kha kar bhi har dard seh leta hai,,,,,,
    Hai pyar itna meetha ki har paristithi mein umeed banaye rakhta hai yeh.......
    ©deepak1991

  • deepak1991 22w

    Dil Ki Koshish

    Yeh dil bada naadan hai
    Ise samjhaana mushkil hai
    Unhi ke khayaalon me rehna chahe
    Sirf unhi se beshumar baat karna chahe
    Ek pal ki bhi duriya ab gawara nahi
    Ajab is rishte ki buniyaad hai
    Is pyar me haar jeet maayine nahi
    Bas pyar ko pyar se sambhale rakhne ki koshish hai......
    ©deepak1991

  • deepak1991 22w

    Mout

    Mout se laga liya hai dil
    Zindagi aise jee rahe jaise,
    Sabko rakh rahe hai khush
    Aur apni galtiyon ki maafi,
    Sabse maange ja rahe hai
    Ab aise safar me hai
    Jaha har mukaam haasil karna hai
    Us sikhar ko haasil karne me lage hai
    Jaha se mudna gawaara nahi
    Ab haar ya jeet yeh sunishchit nahi
    Lekin jeet ki umeed jagaaye rakhe hai........
    ©deepak1991

  • deepak1991 25w

    Gehra Sapna

    Is pyar me sabse mushkil kaam apne dil ko samajhana hai......
    Kyunki yeh kisi ki sunta nahi aur na hi kisi ka zor is par chalta.......
    Yeh to machalta rehta hai Apne dilbar ko paane aur unse milne ke liye.......
    Meri zindagi ek aise daur se guzar rahi hai jaha me apne premi ko khushiyon ke alawa kuch nahi de pa raha hu.......
    Wo to itni bholi hai ki use mujhse kuch bhi nahi chahiye.......
    Lekin zindagi mein pyar aur paisa dono maayine hai........
    Paisa ka hona behad zaroori hai apni zindagi ko achche se chalane ke liye......
    Wakt utna achcha nahi hua hai mera lekin itna yakeen hai ki aane waala samay sab achcha hoga aur fir un par bhi hazaro khushiyaan lutate nazar aaunga mein......
    Unko lekar bahut armaan sajaaye hai sab pura karna hai isi zindagi me.......
    Isi kaam mein lage huve hai hum......
    ©deepak1991

  • deepak1991 25w

    Yaadon ki Raat

    Din to kat jaati hai magar raat nahi kat ti......
    Jaane kaisa hua hai asar.....
    Ek pal bhi dur unse raha na jaaye bechain mann......
    Aankh band hai to tak thik hai warna aankh khulte hi mann unki aur le jaata hai.....
    Mann me basi unki sunehari yaadein jeevan savarne ka ek sadhan hai......
    Pyar ka nasha hi kuch aisa hota hai jo dur hote huve bhi paas hone ka ehsaas dilati hai.......
    Ajnabi se shuru hokar humsafar ban jaati hai......
    Aur mohabbat ke diye dilo me jalakar saare jag ko roshan kar deti hai......
    ©deepak1991