curious_writer

www.instagram.com/mdharma1016

with the title Dr. Dharmender Homoeopathic physician instagram:@mdharma1016 https://curofy.com/drdharmenderyadav

Grid View
List View
Reposts
  • curious_writer 2w

    बातों का खेल, जज्बातों में बदल गया,

    हंसते - हंसते मजाक भी एहसासों में बदल गया।

    तुम्हारा नूर , रूह को कुछ इस तरह छू गया,

    मानो बरसो पुराना ख़्वाब भी हकीकत में बदल गया।।

    ©curious_writer

  • curious_writer 2w

    कल - बीता हुआ कल
    कल - आने वाला कल
    कल - यंत्र /मशीन

    Read More

    कितना अजीब है
    ये कल का चक्रव्यूह
    एक इंसान अपने कल की वजह से,
    अपने कल को बेहतर बनाने के लिए,
    महज़ एक "कल" बन कर रह गया ।

    ©curious_writer

  • curious_writer 3w

    दिल में मुस्कुराहट और होठों पर नजाकत बनाए रखना,

    दिल में मुस्कुराहट और होठों पर नजाकत बनाए रखना,

    लाख उदासी भरे लम्हे दे ये जिंदगी पर खुद पे यकीन का परचम लहराए रखना ......

    ©curious_writer

  • curious_writer 3w

    ए गुजरती शर्द हवाओं ,
    जरा तुम ही अपना रुख मोड़ लो,

    यहाँ जमीं पर कइयों के हालतों ने,
    उनके तन ढकने नहीं दिए .....

    ©curious_writer

  • curious_writer 3w

    If your feelings and emotions in love are a beautiful picture,

    Then intimacy and physical touch are its exility, nicety and depth.

    ©curious_writer

  • curious_writer 4w

    मुकद्दर - ए- मानस
    यहाँ हर मोड़ पर सही गलत के मेले है ,
    तुम मानो या ना मानो, पर यहीं
    सबने अपनी जिंदगी के सारे खेल खेले है.........

    ©curious_writer

  • curious_writer 4w

    कभी एक वक्त भी ऐसा होगा सोचा न था,
    की सब प्यार भरी, प्यार की बाते करेंगे पर प्यार कोई नही करेगा।

    ©curious_writer

  • curious_writer 4w

    बढ़ती हुई धड़कने ,सहमी सी रूह

    तड़पते हुए एहसास ,जलती सी काया

    ©curious_writer

  • curious_writer 4w

    आज एक इंसान ने फिर थक कर सोना चाहा,
    सो कर भी वो अपने आप को सोता ना पाया,
    थकान तो थी, पूरे दिन भर की लेकिन वो थका जिस्म से  नहीं, बल्कि उसकी रूह थक चुकी थी इस खोखली सी इंसानियत से जहां इंसान की प्रजाती तो है पर कोई एक इंसान नही............


    ©curious_writer

  • curious_writer 7w

    Why there are few chapters in our life are hard to get rid over them after reading but becomes appendix of the book that are placed at the end of book still we have to visit very frequently there........
    ©curious_writer