curious_minds

instagram.com/curious_minds__?utm_medium=copy_link

Curious Minds is an Initiative only for beginner writers . So feel free to write and Dm us original content .

Grid View
List View
  • curious_minds 31w

    #fathersday
    #fatherdaughter
    #curious_minds__

    @hindiwriters @readwriteunite @hindinama

    बसर : गुज़ारना
    तक़ाज़ा : आवश्यकता , ज़रूरत

    Read More

    Father's Day

    वक्त का तक़ाज़ा था
    आँखें भर आई थी
    ज़िन्दगी बसर होगी कैसे
    आज बेटी की विदाई थी

    © Umar

  • curious_minds 31w

    आवाज़ दो मुझे
    कि मेरी रूह दफ़्न है
    कई अरसे से
    यादों के उस मलबे में
    जहाँ पर हम दोनों ने मिलकर
    ख़्वाबों का आशियां(2) सजाया था
    बड़े तहम्मुल(1) के साथ मुहब्बत से

    रफ़्ता - रफ़्ता साँसे चल रही है
    हौले - हौले धड़कने कह रही मगर
    मुर्दा हूँ मैं ... मुर्दा हूँ मैं ...
    न कोई साथी है , न कोई साक़ी(3)
    रास्तों की कुछ ख़बर नहीं
    न ज़िन्दगी में रहा मज़ा बाकी

    मेरे हम-नफ़स (4 ) ... मेरे हम-नवा (5) ...
    तू भुलाके सारी रंजिशे
    दिल के थोड़ा करीब आ
    सुन ज़रा इक वो सदा(6)
    जिनमें नाम तेरा ही लिखा

    फिर तुझे भी है इजाज़त(7)
    कहो अलविदा ... कहो अलविदा ...

    © Umar

    1. तहम्मुल : सब्र
    2. आशियां : घर
    3. साक़ी : शराब पिलाने वाले
    4. हम-नफ़स : साथ साँस लेने वाला
    5. हम-नवा : साथ आवाज़ देने वाला
    6. सदा : आवाज़
    7. इजाज़त : अनुमति

    ~~~~~ ~~~~~ ~~~~~
    Curious Minds is an initiative only for beginner writers . Feel free to write and dm original writeups to get featured on Instagram page .
    #curious_minds__
    ~~~~~ ~~~~~ ~~~~~

    Read More

    .

  • curious_minds 32w

    ये रात मुझे कुछ कहती है
    एक याद मुसलसल रहती है
    सीने पर पत्थर रखने से
    घुट - घुटकर उम्मीदे रोती है

    जिन आँखों में काजल सजता था
    तन्हाई में वो बहती है
    क्या नूर था , कैसा चहरा था
    हाय ! बेहाल अब जो रहती है

    प्यार , मोहब्बत , इश़्क , वफाये
    जन्मों की इबादत होती है
    और वो लोग सफ़र में छूटेगे
    जिन्हें ख़ूब शिकायत रहती है

    ये रात मुझे कुछ कहती है
    एक याद मुसलसल रहती है

    © Umar

    #farcry
    #wod
    #mirakee

    Read More

    A Far Cry

  • curious_minds 32w

    " बेवजह मौत "

    अजीब कश्मकश है
    ये रात की तीरगी(1)
    जो सोते में
    मुझको जगाती रही
    यही अहसास दिलाती रही
    कि मैं हूँ सहरा(2) का कोई फूल
    मुझे काटना ही होगा
    ये मौसम ख़ल्वत(3) का
    तन्हाई में , बेसहारा !

    याद है जानाँ(4)
    क्या दिन गुज़रे थे
    तेरे होने से लगता था
    मुझे हर रंग मयस्सर(5) है
    तेरे सीने में इक दिल था
    मेरे सीने में इक घर है
    मेरे था पास मुकम्मल(6) तू
    मुझे किस बात का डर है !

    अजब है वक्त बदलता हैं
    अलग मौसम में ढलता है
    जिस भी सम्त(7) चले जाऊँ
    तुझ ही को ढूँढ ना पाऊँ
    दुआएं रो रही कबसे
    ख़ुदा से माँग कर लाऊँ
    तू ही अब आरज़ू(8) कबसे
    ना देखूँ मैं तो मर जाऊँ !

    © Umar

    1. तीरगी ~ अँधेरा
    2. सहरा ~ रेगिस्तान
    3. ख़ल्वत ~ अकेले होना , ऐकांत
    4. जानाँ ~ प्रेमिका
    5. मयस्सर ~ मिलना
    6. मुकम्मल ~ पूरा
    7. सम्त ~ तरफ , दिशा
    8. आरज़ू ~ इच्छा , तमन्ना

    #rachanaprati23
    @mirakee
    @writersnetwork
    @hindiwriters
    @amandeep1

    Read More

    .

  • curious_minds 32w

    #urdupoetry
    #hindipoems
    #curious_minds__

    Curious Minds is an initiative only for beginner writers . So feel free to send your original writeups now on Instagram ( Link in bio )
    Hurry up to get featured soon ❤
    Language : Hindi / English / Urdu

    Read More

    तस्वीर

    शदीद धुंध में बनेगी जब तस्वीर तुम्हारी
    हैरत नहीं , हमें फिर कुछ दिखाई न दे ।।

    © Umar

  • curious_minds 32w

    #urdupoetry
    #hindipoetry

    गिला ~ शिकायत
    आबला ~ छाला
    क़ाफ़िला ~ यात्री दल
    कोहकन ~ पहाड़ खोदने वाला
    क़ैस ~ मजनू

    Curious Minds is an initiative only for beginner writers ( Hindi / English / Urdu ) . So feel free to send original content on our Instagram Link . Stay Curious and Keep Writing

    Read More

    अहमद फ़राज़

    ज़िंदगी से यही गिला है मुझे
    तू बहुत देर से मिला है मुझे

    तू मोहब्बत से कोई चाल तो चल
    हार जाने का हौसला है मुझे

    दिल धड़कता नहीं टपकता है
    कल जो ख़्वाहिश थी आबला है मुझे

    हम-सफ़र चाहिए हुजूम नहीं
    इक मुसाफ़िर भी क़ाफ़िला है मुझे

    कोहकन हो कि क़ैस हो कि 'फ़राज़'
    सब में इक शख़्स ही मिला है मुझे

  • curious_minds 32w

    #Urdulines
    #urdupoetry
    #2liners

    तकाज़े : जरूरत , इच्छा
    मुकम्मल : पूरा

    Read More

    एक शेर

    मुहब्बत के तकाज़े भी मुकम्मल हो नहीं सकते
    किया वादा वफ़ाओ का अधूरा रह ही जायेगा

    © Umar

  • curious_minds 32w

    #urdupoetry
    #curious_minds__

    उजली याद ~ Bright memories

    Read More

    रात

    जैसे - जैसे रौशनी रात की कम होगी
    लाखों आँखें हौले - हौले नम होगी ,

    हर दिल डूबके उजली याद में बखरेगा
    चलती धड़कन हल्के से मद्धम होगी ।।

    © Umar Salim

  • curious_minds 32w

    कविताएँ

    कविताएँ देती है सहारा
    टूट जाती है जब उम्मीदें
    दिल थककर बैठ जाता है
    और रोने के लिये भी
    कोई कंधा मौजूद नहीं होता

    कविताएँ करती है उजाला
    रूठ जाते हैं जब सितारे - सय्यारे
    और मंज़िल की तरफ तुम्हें
    चलना हो मगर तन्हा

    कविताएँ देती है वो ज़िन्दगी
    जो होती है चंद लम्हों की
    लेकिन ख़ूबसूरत अहसास देती रहेगी
    तुम्हें यादें बनकर

    और जो लोग कविताएँ पढ़ते हैं
    कविताएँ उन्हें पढ़ती हैं ।।

    © Umar Salim

  • curious_minds 33w

    #Urdulines
    #urdupoetry
    #2liners

    आशनाई : दोस्ती
    परेशाँ : परेशान
    तनहाई : अकेलापन

    Read More

    तन्हाई

    मेरे जिस्म से तेरी यादें आशनाई करे
    जैसे रातों को परेशाँ ये तन्हाई करे

    © Umar