coolkarni

youtube.com/channel/UCM4bqPZ4if1MRnp_zkEq6uA

#coolkarnialization #optimist 17�� Follow your heart in sync with your brain ❤️��

Grid View
List View
Reposts
  • coolkarni 56w

    Word Prompt:
    I feel ashamed ��
    Huh
    Write a 10 word one-liner on Narrow

    Read More

    Narrow minds

    Even she commented nastily on her short dress
    Was raped
    ©coolkarni

  • coolkarni 56w

    ❤️

  • coolkarni 56w

    Word Prompt:

    Write a 3 word short write-up on Agony

    Read More

    Agony

    The current me
    ©coolkarni

  • coolkarni 57w

    Word Prompt:

    Write a 6 word short write-up on Expectation

    Read More

    It builds relationship
    Actually it ruins

  • coolkarni 57w

    Word Prompt:

    Write a 3 word short write-up on Ungrateful

    Read More

    Lost in you

  • coolkarni 57w

    Word Prompt:

    Write a 8 word short tale on Intend

    Read More

    Living

    I'm living still,
    He has some plans
    ©coolkarni

  • coolkarni 57w

    #postoftheday
    #coolkarnialization
    #coolkarniwrites

    खुदपर भरोसा रखना ,
    ख्वाबों से नज़रें उठाके मिल,
    खुदको तब तक जुटाके रखना
    जब तक नहीं मिलती मंज़िल।

    ख्वाबों के समंदर में ढूंढ पहले खुदको,
    वरना मोह उसके जाल में फसा देगी तुझको !
    उठकर दौड़ तू, गिरकर भी संभालना है खुदको,
    मा- बाप का सर गर्व से ऊंचा करना है उसको ।

    जहां फस जाएगा तेरा दिमाग,
    मदद करेगा तेरा दिल !
    खुदपर भरोसा रख,
    ख्वाबों से नज़रें उठाके मिल!!
    खुदको तब तक जुटाके रखना,
    जब तक नहीं मिलती मंज़िल!



    Believe in yourself ��If you will not ,who else will ?!��

    Read More

    खुदपर भरोसा

    Read the caption
    ©coolkarni

  • coolkarni 57w

    Word Prompt:

    Write a 3 word short write-up on Loyalty

    Read More

    Thorns protect flower

  • coolkarni 57w

    #postoftheday
    #coolkarnialization
    #coolkarniwrites

    ऊंचे गगन में पर फैलाकर उड़ान कैसे भर लेती है ये चिड़िया,
    घाव लगा तो बदल देती है वो अपनी डाल,
    बस यूही बैठकर क्यों आया मेरे मन में ये उलझा से खयाल ।

    हौसले बुलंद लिए क्यों एक मुसाफिर चल देता है लेकर अपनी तरकीबों की मशाल,
    किसी कि बेकार की रोक पर क्यों उठा देता है यह सवाल,
    बस यूंही बैठकर क्यों आया मेरे मन में ये सोचा हुआ खयाल।

    सूरज चमकता है मगर वक्त आने पर छुप सा जाता है क्योंकि आ चुके होते हैं बादल,
    यू तो ये बन चुका है कर्मों का काल,
    बस यूंही बैठकर कैसे आया मेरे मन में टेढ़ा सा खयाल ।

    नज़रें क्यों बदल देती है अपने देखने का नज़रिया,
    वो नजर ही है जो बनाती है आदमी को बेमिसाल,
    बस यूंही बैठकर क्यों आया मेरे मन में शानदार सा खयाल।

    कभी खयाल नही आए तो हो जाती हू बेहाल,
    बस यूंही बैठकर फिर आजाते है ये लाखों मिलों खयाल !

    Read More

    खयाल

    Read the caption ✌️


    ©coolkarni

  • coolkarni 57w

    Word Prompt:

    Write a 8 word short tale on Nuance

    Read More

    Nuances

    I took glances
    Within me found many nuances
    ©coolkarni