chinu_7

pround Bhartiya, servent of words, Engineer, Nature lover...

Grid View
List View
  • chinu_7 3w

    #दोस्त

    Read More

    कुछ दोस्त....

    लुंगा ना नाम कभी दोस्तों तुम्हारा....

    बस समज जाना,

    हो, मतलभी अब तुम भी ....!!!



    ©chinu_7

  • chinu_7 15w

    क्या है जीवन ?

    केवल हंसी केवल खुशी,
    सर्वस्व यह न जीवन का,
    थोडा सा गिरकर - थोडा संभलकर,
    मुस्कुराहते हमेशा ओठोपर,
    पथ, यह भी तो हैं जीवन का....

    मुश्किलों से घबराकर मोड लेना मार्ग,
    अर्थ, यह तो ना हैं जीवन का...
    अपनाकर बाधा ओ को, लडना जी जान से,
    सार्थ, यह भी तो हैं जीवन का...

    लेकर हाथो मे हाथ, खीले सुख दुःख के साथ,
    चरितार्थ, यह भी तो हैं जीवन का...
    ना पद पैसा प्रसिद्धी औंर प्रतिष्ठा,
    तो धर्म अर्थ काम ओर् मोक्ष
    पुरुषार्थ, यही तो हैं जीवन का...


    ©chinu_7

  • chinu_7 21w

    समंदर सां जीवन..

    तुफान के इस समुंदर में, लहरे तो शोर् मचाती है..
    मत कर गम हरदम, जिंदगी ये बहोत आजमाती हैं..

    आजामना तो, जिंदगी का ही ऊसुल है..
    इसमे न जाने , मेरा आपका किसका कुसुर हैं..??
    .
    ©chinu_7

  • chinu_7 28w

    काही लिहावं..??

    जाई - जुई च्या सुगंधाला

    सोन चाफ्याच वेड लागाव....!!

    तस काहीसं लिहायचं म्हणतोय.



    ©chinu_7

  • chinu_7 28w

    इतवार

    मुलाकाते ये इतवार की किसे चाहिए...

    मुझे तो हर शाम बस यह नजारा चाहिए.....



    ©chinu_7

  • chinu_7 38w

    अहसास..

    ना तो सफर हू में, ना हू कोई मंजिल...

    .. खोकर्,
    ... जानकर,
    ..... गुजरकर, मुझसे क्या कर लोगे हासिल...??




    ©chinu_7

  • chinu_7 39w

    लीखते हो...!!

    पूछते हैं वह,
    क्या दिल से लिखते हो...?
    . या दिमाग का भी कुछ खेल है..?


    "लिखना" तो मानो एेसा हैं..
    जैसा यह जीवन..
    सुझ् बुंझ औंर जाजबातो का ही तो मेल हैं..!


    ©chinu_7

  • chinu_7 42w

    ?

    खोकर क्या पाया...?
    पाकर क्या खोया...?
    साल के इस अंत में सवाल मन मे आया..


    लम्हो को कुछ अपनाकर, खुद ही को ठुकराया..



    ©chinu_7

  • chinu_7 44w

    बाते...

    बाते जो अनकही थीं बस कहनी थी जरुरी...
    शब्दो ने होठो से कर ली थी बहोत सी दुरी...

    ©chinu_7

  • chinu_7 44w

    बाते...

    बाते जो अनकही थीं बस कहनी थी जरुरी...
    शब्दो ने होठो से कर ली थी बहोत सी दुरी...

    ©chinu_7