blue_nib

instagram.com/blue_nibb

@blue_niib insta profile. *Soldier's_Word*

Grid View
List View
Reposts
  • blue_nib 4d

    You

    Should I write to you !!!
    & Leave you like...
    A poem.
    But you aren't that ordinary |

    You are that love-song!!!
    Which soothes my soul...
    Of which , i want to inhale each word...
    till it reaches each nerve end |

    &
    I want to hum it till...
    I become , that song...
    till
    I become You !!

    © माही
    ©blue_nib

  • blue_nib 4d

    तुम

    लिख कर छोड़ दूं !!!
    तुम्हें, ऐसी मामूली ...
    कोई कविता नही हो तुम...
    तुम हो , वो गजल...
    जिसका हर हर्फ, मुझे गाना है...
    रूह के अंतिम अंतरकर्ण तक...
    रक्त कोशिकाओं के अंतिम छोर तक...
    बार बार,
    तब तक उसे गुनगुनाना है...
    जब तक , मैं वो गजल न हो जाऊ ,
    और
    तुम मेरे ||

    © माही
    ©blue_nib

  • blue_nib 1w

    सीख

    कुछ नया सीखने के लिए ,
    मुझे फिर से बच्चा होना होगा ...
    दुनिया की खरीद_फरोख्त में...
    बेची मैने मासूमियत है...
    उठाई कर्ज पर जालसाजी है..
    हर बात पर फरेब के...
    हुनर का अब दिल ये आदि है...
    दुनिया की जेल में हूं बंद...
    फिर भी खुश इस आधी पक्की आजादी में ||
    हर चीज का आसान रास्ता...
    दुनिया ने दिखाया है,
    वही घिसा पीटा, राग मैने भी बजाया है ||
    आत्मा तक सब , पुराना हो चुका है...
    मेरी गिनती दुनिया के हिसाब में हो चुका है...
    अंदर का मासूम बीज , कही खो चुका है...
    .
    .
    हां,
    कुछ नया सीखने के लिए ,
    मुझे फिर से बच्चा होना होगा ||

    © माही
    ©blue_niib
    ©blue_nib

  • blue_nib 3w

    Stone

    I wrote your name !!!
    On stone...
    & See...
    It became , a sublime poem ||
    ///
    मैंने पत्थर पर !!!
    तुम्हारा नाम लिखा...
    और देखो ना...
    वो अब , कविता सा कोमल हो गया ||

    © माही
    ©blue_nibb

  • blue_nib 4w

    Life's Web

    At first we knit a web !!!
    & Stamp it as life...
    Spinning wild , get lost in self made chaos..
    Always attempting for a last strive ||

    © माही
    ©blue_nib

  • blue_nib 5w

    भ्रम

    एक मिट्टी का टुकड़ा !!!
    बढ़ता है , और जीवंत हो जाता है...
    भ्रांति में स्वयं को अद्वितीय और अमर समझ लेता है...
    यथार्थ से हुआ जब समक्ष...
    हो गया फिर से...
    मिट्टी में मलिन ||

    © माही
    ©blue_niib

  • blue_nib 5w

    Human

    A piece !!!
    Of soil
    Grew and became a human life
    Claiming to be unique & immortal
    Reality brushes
    & it becomes
    Soil Again ||

    © माही

    ©blue_niib

  • blue_nib 5w

    राम

    हमने पत्थरों से सेतु बनाए !!!
    और कुछ ने...
    उन्ही पत्थरों से इंसान डहाय||
    ///
    We created "Ram Setu" (Adam Bridge) !!! with the stones !!!
    And few pelted same stones...
    to destroy and punish humans ||

    ©माही
    ©blue_niib

  • blue_nib 6w

    Reappear

    Every colour !!!
    On my Canvas is her "Reappearance"...
    The words...
    On this pale paper is her
    appearance theory...
    They say one cannot see in dark...
    & Then you Reappear...
    As i close my Eyes ||

    © माही
    ©blue_nib

  • blue_nib 6w

    Love

    The ink was formed !!!
    Out of my tears...
    All i could write was...
    Love ||
    ///
    सियाहि अश्रु रूपी थी !!!
    कथन, में मैं सिर्फ...
    प्रेम ही लिख पाया ||
    ©®
    माही
    blue_nibb
    ©blue_nib