Grid View
List View
Reposts
  • bebaklavz 4w

    कह दो इन रातों को की जरा आहिस्ता आया करे
    शोर इनके सुन के अक्सर मेरे गम जाग जाया करते
    ©bebaklavz

  • bebaklavz 6w

    मैं कुछ शब्दों को अमर करने की चाहत में बार बार लिख रहा
    मैं काग़ज़ पे ना जाने क्यों माँ लिख रहा
    ©bebaklavz

  • bebaklavz 6w

    यूँ होना ना था,
    पर आँखे नम हो गई,
    कुछ पुरानी यादों से,
    आज फिर मुलाक़ात हो गई,
    धुंधली दिख रही थी वो तस्वीर पुरानी,
    साथ जिसमे थे हम तुम और ना जाने कितनी कहानी.
    ©bebaklavz

  • bebaklavz 6w

    अब कहाँ नीदों में ये राते बीतती,
    सिरहाने बैठे वो मेरा इंतज़ार करती
    ताकती दो टूक मुझे और फिर नज़रे फेर लेती
    जैसे मानों की उसे सच का अंदाज़ा हो और हो भी क्यों ना
    सिरहाने बैठे उसने सब देखा हैं
    वो तब भी वहीं थी जब तुम थी,
    वो आज भी वहीं हैं और कल जब तुम्हारी यादें नहीं रहेंगी वो तब भी सिरहाने बैठे मेरा इंतज़ार करेगी,
    पर अब मैंने उसकी आँखों में अमर होने का गुरूर देखा हैं,
    अब कहाँ नीदों में ये राते बीतती,
    सिरहाने बैठे अब कहाँ वो मेरा इंतज़ार करती
    ©bebaklavz

  • bebaklavz 7w

    एक कहानी शुरू कि थी उसके साथ जो रह अधूरी गई,
    लिखा था इश्क़ हमने हर एक पन्ने पे
    पर सेयाही जरा हल्की रह गई
    चुन चुन के लाये थे अल्फ़ाज़ हम ये कहानी बयां करने को
    पर बातें जरा कम रह गई
    खुशी के पल तो हर पन्ने पे लिखे हैं
    पर मुस्किलात में साथ की कमी रह गई
    तेरी मखमली मुस्कान के किस्से भी दर्ज हैं
    पर आंखों में नमी कम रह गई
    जिस्मानी पलों के फलसफे भी मौजूद है कुछ पन्नों पे
    पर रूह से रूह के मुलाक़ात में कमी रह गई
    प्यार तो कुट कुट के कहानी में भरा पड़ा था
    पर गुस्ताखियों पे नाराज़गी में कमी कहीँ रह गई
    सोचा हमने देके एक हसींन मोड ख़तम कर दे ये कहानी
    पर कमबख़्त एक मुकम्मल अंत कि कमी रह गई
    ©bebaklavz

  • bebaklavz 12w

    अगर डर ना होता सबकी तरस दिखाने वाली आँखों से,
    तो अबतक हम भी आज़ाद हो गए होते अपने दर्दो से
    ©bebaklavz

  • bebaklavz 12w

    अब क्या बताये सबको कि कितने अकेले हैं,
    डरते हैं की कोई ये ना कह दे कि हमसे ज्यादा नहीं
    ©bebaklavz

  • bebaklavz 13w

    देखो बाहर बादल बरस रहे हैं
    तुम में जो ये गुस्सा है उसे भी बरस जाने दो ना
    देखो कैसे ये बारिश का पानी बह रहा
    तुम भी अपने अंदर के गमों को बह जाने दो ना
    ये सड़कें ये दरख़्त सब गीले हो गये
    अब तुम भी अपने नयन भिगो लो ना
    ©bebaklavz

  • bebaklavz 13w

    हैं मदिराले में बैठे की तेरी याद भूला देंगे
    हैं तेरे इश्क़ का नशा ऐसा
    कि हम सारे मदिराले को तेरे बारे में बता बैठे
    ©bebaklavz

  • bebaklavz 14w

    मैंने झूठ ही इल्ज़ाम लगा दिया इन आँखों पे,
    कि कुछ नहीं छुपा पाती ये - ना जज्बात ना आँसु ना बातें,
    मुझे मजबूत भी तो दिखाना था |
    ©bebaklavz