banarsi_babu

Never cheat someone who loves you

Grid View
List View
Reposts
  • banarsi_babu 3w

    There are two types of deception
    one way
    Those who are not their own, cheat.
    and other they
    Being yourself, pretending to be yourself.

    Read More

    धोखे दो प्रकार के होते हैं
    एक वे
    जो अपने तो नहीं होते, धोखा देते हैं ।
    और दूसरे वे
    अपने होकर भी, अपनेपन का ढोंग करते हैं।

  • banarsi_babu 5w

    गांव

    *तेरी बुराइयों* को हर *अख़बार* कहता है,
    और तू मेरे *गांव* को *गँवार* कहता है //

    *ऐ शहर* मुझे तेरी *औक़ात* पता है //
    तू *चुल्लू भर पानी* को भी *वाटर पार्क* कहता है //

    *थक* गया है हर *शख़्स* काम करते करते //
    तू इसे *अमीरी* का *बाज़ार* कहता है।

    *गांव* चलो *वक्त ही वक्त* है सबके पास !!
    तेरी सारी *फ़ुर्सत* तेरा *इतवार* कहता है //

    *मौन* होकर *फोन* पर *रिश्ते* निभाए जा रहे हैं //
    तू इस *मशीनी दौर* को *परिवार* कहता है //

    जिनकी *सेवा* में *खपा* देते थे जीवन सारा,
    तू उन *माँ बाप* को अब *भार* कहता है //

    *वो* मिलने आते थे तो *कलेजा* साथ लाते थे,
    तू *दस्तूर* निभाने को *रिश्तेदार* कहता है //

    बड़े-बड़े *मसले* हल करती थी *पंचायतें* //
    तु अंधी *भ्रष्ट दलीलों* को *दरबार* कहता है //

    बैठ जाते थे *अपने पराये* सब *बैलगाडी* में //
    पूरा *परिवार* भी न बैठ पाये उसे तू *कार* कहता है //भी

    अब *बच्चे* भी *बड़ों* का *अदब* भूल बैठे हैं //
    तू इस *नये दौर* को *संस्कार* कहता है

  • banarsi_babu 8w

    हर बार बोलूं मैं ही क्या ?
    कभी समझो तुम मेरी दिल की जुबा।

  • banarsi_babu 8w

    शिकायत करे, तो करे किस्से
    जब लड़ाई अपनों से ही हैं।

  • banarsi_babu 8w

    सुकून

    कभी-कभी हम लोग के साथ ऐसा भी होता है किसी से पूछ लेते हैं कैसे हो, लोग रोने लग जाते हैं।
    कितनी पीड़ा दर्द दिल में लेकर बैठे हैं बस कोई इतना पूछ ले, कैसे हो रोने लग जाते हैं।
    आप कैसी हो, क्या आप खुश रहते हो!
    क्या आपके दिल में सुकून है!
    क्या आपके मन में शांति है !
    आप अपनी जरूरत की सभी चीजें बाजार से ला सकते हो। पर आप सुकून कहां से लेकर आए, ऐसी कोई दुकान नही जहां सुकून बिकती हो। फिर भी लोग शांति के लिए , सुकून के लिए यहां से वहां भटकते रहते हैं।
    सोचते हैं ,पैसा मिल जाएगा तो सुकून मिल जाएगा। अच्छा जीवनसाथी मिलेगा, तो खुशियां मिल जाएगा। बच्चे हो जाएंगे तो खुशियां आ जाएंगी।
    जिनके बच्चे नहीं है वह भी रो रहे हैं, जिनके हैं वह भी रो रहे हैं। जिनके पास अच्छा जीवन साथी है वह भी रो रहे हैं , जिनके पास नहीं है वह भी रो रहे हैं। जिनके पास धन है वह भी रो रहे हैं, जिनके पास नहीं है वे भी रो रहे।
    जिंदगी में ये मायने नहीं रखता कि आपने कितना जिंदगी जिया, बल्कि आप कितना खुशी से जिए।
    सारा जीवन लोग खुशी , सुकून के लिए भटकते रहते हैं पर हमारे मन को सुकून तब मिलती है जब किसी चीज की पाने की इच्छा छोड़ देते हैं।
    अशांति का कारण मन की इच्छा है मन की इच्छा को काबू में कर लिया जाए ,तो सुकून को हासिल किया जा सकता हैं।

  • banarsi_babu 10w

    सीन_1
    सुबह सब्जी मंडी का दृश्य :-काका आलू कैसे दिए।।
    (किसान)- 15 ₹ किलो बाऊजी
    सही लगाओ
    किसान- सही है बाऊजी
    बड़ी लूट मचा रखी है 10 के लगाओ।
    किसान- नही बाऊजी, नही बैठेगा ।
    अरे देदो... दो किलो लूंगा
    किसान- ठीक है बाउजी लेलो।

    सीन_2
    शाम का वक़्त घर का दृश्य:
    Hello pizza hut: Yes sir.
    Please book order, one large capsicum paneer pizza with extra cheez and one garlic bread.
    Ans: Okay sir.

    सीन_3
    Knock knock.... Ting tong
    कौन है ?
    Pizza delivery boy: Pizza hut, sir.
    Ohh coming... Thanks.... कितना हुआ ?
    Ans: 570 Rs. Sir.
    ये लो 600 and keep the change; बहुत मेहनत करते हो.
    Ans: Thanks Sir.

    सीन_4
    कमरे का दृश्य - TV में समाचार
    दो किसानों ने और आत्महत्या की।
    (Pizza खाते हुए) - साला, ये गवर्नमेंट किसानों के बारे में बिल्कुल भी नही सोच रही...बड़े शर्म की बात है !

    नाटक_समाप्त

  • banarsi_babu 11w

    खुदा जब हुस्न देता है तो
    नजाकत आ ही जाती है।
    ©banarsi_babu

  • banarsi_babu 11w

    *बहुत लाजवाब पोस्ट*


    एक दिन कॉलेज में प्रोफेसर ने विद्यर्थियों से पूछा कि इस संसार में जो कुछ भी है उसे भगवान ने ही बनाया है न?

    सभी ने कहा, “हां भगवान ने ही बनाया है।“

    प्रोफेसर ने कहा कि इसका मतलब ये हुआ कि बुराई भी भगवान की बनाई चीज़ ही है।

    प्रोफेसर ने इतना कहा तो एक विद्यार्थी उठ खड़ा हुआ और उसने कहा कि इतनी जल्दी इस निष्कर्ष पर मत पहुंचिए सर।

    प्रोफेसर ने कहा, क्यों? अभी तो सबने कहा है कि सबकुछ भगवान का ही बनाया हुआ है फिर तुम ऐसा क्यों कह रहे हो?

    विद्यार्थी ने कहा कि सर, मैं आपसे छोटे-छोटे दो सवाल पूछूंगा। फिर उसके बाद आपकी बात भी मान लूंगा।

    प्रोफेसर ने कहा, "तुम संजय सिन्हा की तरह सवाल पर सवाल करते हो। खैर पूछो।"

    विद्यार्थी ने पूछा , "सर क्या दुनिया में ठंड का कोई वजूद है?"

    प्रोफेसर ने कहा, बिल्कुल है। सौ फीसदी है। हम ठंड को महसूस करते हैं।

    विद्यार्थी ने कहा, "नहीं सर, ठंड कुछ है ही नहीं। ये असल में गर्मी की अनुपस्थिति का अहसास भर है। जहां गर्मी नहीं होती, वहां हम ठंड को महसूस करते हैं।"

    प्रोफेसर चुप रहे।

    विद्यार्थी ने फिर पूछा, "सर क्या अंधेरे का कोई अस्तित्व है?"

    प्रोफेसर ने कहा, "बिल्कुल है। रात को अंधेरा होता है।"

    विद्यार्थी ने कहा, "नहीं सर। अंधेरा कुछ होता ही नहीं। ये तो जहां रोशनी नहीं होती वहां अंधेरा होता है।

    प्रोफेसर ने कहा, "तुम अपनी बात आगे बढ़ाओ।"

    विद्यार्थी ने फिर कहा, "सर आप हमें सिर्फ लाइट एंड हीट (प्रकाश और ताप) ही पढ़ाते हैं। आप हमें कभी डार्क एंड कोल्ड (अंधेरा और ठंड) नहीं पढ़ाते। फिजिक्स में ऐसा कोई विषय ही नहीं। सर, ठीक इसी तरह ईश्वर ने सिर्फ अच्छा-अच्छा बनाया है। अब जहां अच्छा नहीं होता, वहां हमें बुराई नज़र आती है। पर बुराई को ईश्वर ने नहीं बनाया। ये सिर्फ अच्छाई की अनुपस्थिति भर है।"

    दरअसल दुनिया में कहीं बुराई है ही नहीं। ये सिर्फ प्यार, विश्वास और ईश्वर में हमारी आस्था की कमी का नाम है।




    ज़िंदगी में जब और जहां मौका मिले अच्छाई बांटिए। अच्छाई बढ़ेगी तो बुराई होगी ही नहीं।

  • banarsi_babu 11w

    जिंदगी बहुत अच्छी गुजरती है ।
    जब कोई साथ देने वाला हमसफर हो।
    ©banarsi_babu

  • banarsi_babu 13w

    *अफगानिस्तान में एक महिला के आईडी कार्ड में उसको गलती से बेवा(Widow) लिख दिया।।*

    *वो महिला अपने पति को साथ लेकर आईडी कार्ड ठीक कराने गई और तालिबानी अधिकारी से बोली: "मेरा आईडी कार्ड ठीक कर दो।। इसमें गलती से मुझे बेवा लिख दिया है जबकि मेरे शौहर जिंदा हैं और मेरे साथ ही खड़े हैं।।"*

    *तालिबानी अधिकारी ने उसके पति को 2 गोली मारी,, धांय.... धांय.... और बोला: "वल्लाह हबीबी,, ले हो गया है तेरा कार्ड ठीक।।"*