Grid View
List View
Reposts
  • ayush_maurya 35w

    अपनी ख्वाइशें, अरमान, उम्मीद,
    सब जला दो, दफना दो,
    तुम मे भी काबिलयत है जी-हुज़ूरी करने की,
    ये दुनिया को बता दो |

    और

    काबिल बनके भी क्या करेगा ए-दिल-ए-नादान,
    तारीफ तो गुलामी की होगी ,
    मेहनत को कौन पुछता है इस जमाने मे ,
    कीमत तो तेरे जी-हुजूरी और सलामी की होगी |
    ©ayush_maurya

  • ayush_maurya 99w

    Mujhe pta hai

    Mujhe pta hai tum bilkul akele ho iss bheed me v, tumhe khamoshi pasand aane lgi hai, andheron ko tumne apna humsafar maanne liya hai.

    Mujhe pta hai tumhe dono haatho me aa jaane wali zindagi pasand nahi tum tho uss chaar kandho ko jhukane wali mauth ka intzaar hai.

    Mujhe pta hai tum v bilkul mujh jaise ho, tumhe v sabse jayada darr rhiste naam ki bediyo se lagta, tumhe v pyar, mohabbat, fikr etc. naam ke sabdho se darr lagta hai.

    Mujhe pta hai ki tum v kisi se baat nahi karte, tumhe v darr lagta hai unki naraazgi se.
    ©ayush_maurya

  • ayush_maurya 99w

    Neend nahi aa rahi chalo koi baat nahi kuch sikh liya jaye, kyu naa apne khayalo ko nazm ka naam dekar likh liya jaye
    ©ayush_maurya

  • ayush_maurya 100w

    Dost..

    दोस्तों का अंदाज कितना निराला है,
    जी हां मैंने भी आस्तीन में सांप पाला है ,
    दोस्त ऐसे बिल्कुल सांप हो जैसे या
    फिर कह लो सांप ऐसे बिल्कुल दोस्त हो जैसे
    इस दोस्ती के सांप ने हर किसी को काटा है,
    सुख का तो पता नहीं लेकिन दुख को हमेशा बराबर ही बाटा है|
    यह दोस्ती का जहर मुझ पर भी कुछ इस कदर चढ गया था,
    दुनिया की नजरों में मां-बाप का लाडला बेटा बिगड़ गया था

    Happy frndsaanp day..

    ©ayush_maurya

  • ayush_maurya 102w

    मैं नुक्कड़ की चाय सा, तुम सीसीडी कि कॉफ़ी हो,
    मैं चमनिया लेमचूस सा , तुम Eclairs कि टॉफी हो,
    मैं हूं एक साइकिल चालक ,तुम BMW की सवारी हो हो, और मैं हूं एक गांव का छोरा, तुम शहरी कोई नारी हो,
    मैं हिंदी मीडियम पढ़ा लिखा ,तुम अंग्रेजों पर भी भारी हो ||
    ©ayush_maurya

  • ayush_maurya 102w

    जिंदगी उस किताब की तरह बन चुकी है , जिसे पढ़ा तो सबने है पर समझा किसी ने नहीं |
    ©ayush_maurya

  • ayush_maurya 102w

    चांद भी आज हद कर बैठा है ,
    तुमसे मिलने की बेपरवाह जिद कर बैठा है ,
    अब कौन समझाए इस नादान को कि अगर इसे भी तुमसे मोहब्बत हो गई तो चांदनी का क्या होगा |
    ©ayush_maurya

  • ayush_maurya 102w

    शाम....

    Kitni khamosh hai naa aaj ki saam bilkul usi tarah jaise tumse milne se pehle hua karti thi, sukoon ko khud me samate hue khamoshi v kitni pyari si dhunn gunguna rahi hai jaise koi maa apne bacche ko goad me liye koi lori suna rahi ho ..
    ©ayush_maurya

  • ayush_maurya 102w

    The more you explain Yourself to others,
    The more you will be proved wrong.
    ©ayush_maurya

  • ayush_maurya 103w

    I WANTED...

    I wanted,
    I wanted to be heard,
    I wanted to be with u,
    I wanted those messages to read,
    I wanted to be yours from the bottom of my heart,

    But, But....

    Peoples around me are deaf they can’t hear, maybe they can’t see that’s why my msg are left unread Or maybe they are just trying to ignore me because they can’t afford an extra page to their life’s Book.
    ©ayush_maurya