Grid View
List View
  • artiest_ajay 82w

    तुम सौदागर हो, व्यापार खूब जानते हो...
    हमारा क्या, बेफ़िकरे मवाली हैं...
    औरों को छोड़ो, अपनो को लूट लेते हैं...!



    ©artiest_ajay

  • artiest_ajay 85w

    इलज़ाम तो ज़िंदगी ने लगाये हैं मोहब्बत के दामन में...

    कंबख्त ज़रा सा हँस भी दे तो लोग आशिक कह जाते हैं।



    ©artiest_ajay

  • artiest_ajay 87w

    औकात उन्हें अब उनकी दिखानी है,,
    जो अपनो को छोड़ गैरों के दिवाने हैं...

    ऐ हवा कह दो उस नाचीज़ शमा से,,
    गया ज़माना जलने का, अब जलाने को तैयार ये परवाने हैं।



    ©artiest_ajay

  • artiest_ajay 87w

    बड़ी बदनसीब है मोहब्बत मेरी,,
    हक मुझपे जताती है और प्यार किसी और से.....




    ©artiest_ajay

  • artiest_ajay 88w

    चलो एक नया ख़ाब देखते हैं....
    रात की पनाह में माहताब देखते हैं...
    आँखों का क्या है, सोती जागती रहती है...
    नींद का नया आसमान देखते हैं।





    ©artiest_ajay

  • artiest_ajay 88w

    बेवफ़ाई के आलम मे, वफ़ाई ढूंढता हूँ मै...
    जाने कब उनसे मुलाकात हो...

    जब मुलाकात हो, लफ्ज़ कम न रहे...
    बात हो इश्क़ की,, दूजी और कोई बात न हो।।





    ©artiest_ajay

  • artiest_ajay 88w

    रात काली ही सही, नींद में ख़ाब तो लाती है...



    उजाले की तरह ज़ख्मों को बर्गलाती तो नहीं न !






    ©artiest_ajay

  • artiest_ajay 88w

    मोहब्बत तो उस चाँद को भी बेपनाह है अपनी रौशनी से...

    फिर भी हर रात वो थोड़ी-थोड़ी आती जाती है।



    ©artiest_ajay

  • artiest_ajay 89w

    मोहब्बत में हमराज़ यूं तो बहुत है...

    वो शख्स चाहिए जो हमे बेनकाब कर दे।


    ©artiest_ajay

  • artiest_ajay 91w

    When someone says goodbye to you from

    bottom of the heart....

    Just let them go...


    ©artiest_ajay