arpit_gautam

currently not available...

Grid View
List View
Reposts
  • arpit_gautam 79w

    मगरूर=घमंडी

    Read More

    शौहरत की चाहत तले क्यों , मजबूर हुए जाते हैं,
    चंद लम्हो के मेहमान , फिर भी मगरूर हुए जाते हैं।
    ©arpit_gautam

  • arpit_gautam 80w

    .
    चंद सूरत पर लुट कर तुम मुहब्बत का राग गाते हो,
    यहाँ मुहब्बत रूह की,नासूर हो गयी और उन्हें खबर तक नहीं..

    Read More

    मियाँ,इश्क़ की आड़ में जिस्मानी , वो बात कहते हैं,
    लिए बैठे शमा धूप में , दिन को , वो रात कहते हैं।
    ©arpit_gautam

  • arpit_gautam 80w

    Anjani

    हर लम्हा मेरा उस अंजानी की याद , में गुज़र गया,
    की उसे भूलने की इबादत , तो खुदा भी उसके नाम से मुकर गया।
    ©arpit_gautam

  • arpit_gautam 81w

    वो मशरूफ महफ़िलो में अपनी , हम गुमनामी में मरते रहे,
    वो बोली अब याद न करना, बस यही गुनाह हम हर बार करते रहे।
    ©arpit_gautam

  • arpit_gautam 84w

    तबाह हुए गैरो के खातिर , लोग तमाशा देखने आ गए,
    एक चिंगारी जला गयी हमे , लोग हाथ सेकने आ गए ।
    ©arpit_gautam

  • arpit_gautam 85w

    .

    बहुत रोका खुद को पर दिल , फिर नादानी कर गया ,
    इक ख्याल उसका , मेरी आँखों में, फिर पानी भर गया।
    ©arpit_gautam

  • arpit_gautam 86w

    की इबादते बहुत पर दुआओ में , अब असर नहीं होता,
    बस थक गया हूँ ज़िंदगी, मुझसे , अब सफर नहीं होता ।
    ©arpit_gautam

  • arpit_gautam 86w

    बड़ी बड़ी थी ख़्वाहिशें सबको , वो धूल कर गयी,
    करते रहे हम इंतज़ार, और गैर को , वो कबूल कर गयी।
    ©arpit_gautam

  • arpit_gautam 87w

    ये गम भी शायद विरासत में हैं,
    कैसे मुस्कुराये जब खुशियाँ ही हिरासत में हैं। ����

    Read More

    वो कर गए सितम, हम उनका हिसाब भी ना लगा सके,
    छीनी खुशियाँ इस कदर, कि मुस्कुराहट का नकाब भी ना लगा सके।
    ©arpit_gautam

  • arpit_gautam 87w

    दिल जो टूटा मेरा, कहो किसका कसूर था,
    गुमनामी में हैं जो गौतम ,कभी इश्क़ ,उसका भी मशहूर था।
    ©arpit_gautam