Grid View
List View
Reposts
  • anusugandh 1d

    ख्वाब

    ख्वाबों के पन्नों में एक नया ख्वाब जुड़ते जुड़ते रह गया

    बस वह आया, ठिठका ,,झांका और बस चल दिया
    ©anusugandh

  • anusugandh 1d

    रिश्ते

    ना कर बंद,,,,, दिल के दरवाजे
    बस कुछ,, रिश्तो की लौ अभी बाकी है
    खोल कर रख ,,,,,,,,,अपनों के लिए
    ना जाने ,,,,,कितना तेल और बाती है
    ©anusugandh

  • anusugandh 2d



    एक समय आएगा, ना लोग मिलेंगे ना बात करेंगे

    बस ,,एक मैसेज के द्वारा ,,फॉर्मेलिटी पूरी करेंगे!!!
    ©anusugandh

  • anusugandh 3d

    अपने दिल की खूबसूरती को पन्नों पर उतारती हूं
    कुछ अपनी कुछ गुजरे लम्हों की तस्वीर दिखाती हूं

    कभी खुशी कभी उदास लम्हों का जिक्र होता है
    जहां ले जाती जिंदगी उन्हीं यादगार पलों को जीती हूं

    कभी लगता गुलों की तरह गुलजार है ये जिंदगी
    कभी मायूसी के घेरे में घिरी जिंदगी को मनाती हूं

    इसी धूप छांव में बस कट रही है जिंदगी
    उसी को सुंदर बनाने में बस अपना जीवन बिताती हूं
    ©anusugandh

  • anusugandh 4d

    सब ख्वाहिशें धरी की धरी रह जाएंगी
    जी लो जो पल जीना है वरना कोरोना ले जाएगी जिंदगी
    ©anusugandh

  • anusugandh 4d



    ख्वाहिशों के बोझ तले क्यों दबी जा रही है जिंदगी
    बाहर निकल और देख कितनी खूबसूरत है ये जिंदगी
    ©anusugandh

  • anusugandh 4d



    कैसे-कैसे,,,, खेल दिखा रहा प्रभु तू
    इंसान के कर्म की,, इतनी बड़ी सजा दे रहा तू
    माना,,,,,,,,,, गलतियों का पुतला है इंसान
    बहुत हुआ दंड, अब तो क्षमा कर दे प्रभु तू!!!!
    ©anusugandh

  • anusugandh 1w

    अभी अंधेरा है तो उजाला भी होगा
    दौर बुरा है तो अच्छा भी होगा

    Read More

    ☘️

    माना अभी चारों ओर अंधेरों का शोर है
    एक जुगनू बन कर ही चमक जाऊं फिलहाल बुरा दौर है
    ©anusugandh

  • anusugandh 1w



    मरने की सौ वजह भले ही हों
    एक वजह ही काफी है बस जीने के लिए
    ©anusugandh

  • anusugandh 1w



    पल-पल बदलती ख्वाहिशों
    क्यों कर रही मन को बेचैन
    अब तो शांत रहने दो मुझको
    अंतिम पारी में क्यों छीन रही मन का चैन
    ©anusugandh