anushka_singh_panchhi

www.instagram.com/@panchhii22

free to fly in my own world of thoughts don't follow to unfollow #introvert

Grid View
List View
Reposts
  • anushka_singh_panchhi 2w

    ✨✨

    छत टूट गई तो क्या, दीवारे तो है
    मेरी मुसीबतो, के समंदर, के किनारे तो हैं
    मैं टूटी नहीं हूं, दरारे ही तो है...
    ऐ खुदा तू हाथ पकड़े रहना मेरा....
    PANCHHI अकेले हैं जहाँ में, तेरे सहारे ही तो है

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 7w

    क्या लिख दूँ (part2)

    Annual function में कभी न कभी नाचे हम सारे थे,
    शोर मचा कर टीचर के कान हम ही ने फाड़े थे,
    चश्मा तोड़ , सर का, सबूत हमने मिटाये सारे थे
    डाँट सुनकर ,मुँह लटकाए जैसे हम बेचारे थे।

    क्या लिख दूँ के वो पल बहुत प्यारे थे

    पहली मोह्हबत के हमारे वही से चर्चे उठे थे,
    वो महबूबा , section A से थी , ये सबमे पर्चे बटे थे।
    वहाँ जाते है तो , आज भी हमारी कोई हस्ती है
    उस स्कूल में हमारी जान बस्ती है........।

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 8w

    क्या लिख दूँ (part1)

    उसको याद में, क्या लिख दूँ ऐसा की वो बयाँ हो जाये
    लिख दूँ की ,वो पल बहुत प्यारे थे,
    हमने भी दो चोटियों में, अपने बाल संवारे थे।
    स्कूल ड्रेस में, फैशन के नए , तरीक़े निकाले थे।

    ऊपर की दो बटन खोल, बाहें चढ़ाई थी...
    उसके दंडवत मैदान के चक्कर काटे थे।
    गृहकार्य न होने पर , कॉपी न लाने का बहाना मारे थे
    गणित की कक्षा छोड़, जनरेटर के पीछे छिपे हम सारे थे

    क्या लिख दूँ के वो पल बहुत प्यारे थे

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 8w

    वो कहता है, मुझे सब बता दिया करो....
    जाना!!..तुम क्या ही कर लोगे, दर्द मेरा जानकर
    जब लड़ना मुझे खुद ही है....
    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 9w

    हौसला

    ये जिंदगी में मुसीबतों का रंग ,
    एक दिन कच्चा हो जाएगा
    तू हौसला तो रख बंदे, सब अच्छा हो जाएगा.......

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 10w

    ऐ लिखने वाले , कुछ करामात कर दे.....
    वो जो मुझे दिल से चाहे,
    उसे मेरे नाम कर दे.....
    मैं उसे इश्क़ आँखों से जता दूँ
    वो मेरी रूह को छू जाए
    बिन बोले ही इश्क़ हमारा मुक्कमल हो जाये....
    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 15w

    मैंने आँखों में गम तो भरा, पर बहाया नहीं
    सब कुछ किया सब लिए, पर कभी जताया नहीं
    मैंने अपनों की खुशी के ख़ातिर , ख़्वाब छोड़ दिये
    शायद यही गलती कर दी पंछी....
    तूने सबकी तरह.....अपनी अच्छाईयों को बताया नही
    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 16w

    बरकत

    ये जो भी बरकत है घर पर, सब पिता की दी हुई है
    मैंने किसी भी मन्दिर में, फेरे नहीं लगाए है....
    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 16w

    खोज रहा था वो मेरे चेहरे पर उदासी,
    मैंनें रुखसती मे उसे ये तोहफा भी ना दिया

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 20w

    बुनियाद

    सब यहाँ आज अपने वायदे भुलाये बैठे है
    इतने बड़े हो गए , की कायदे भुलाये बैठे है

    बुनियाद का इनको पता नहीं
    लेकिन महलो के घर सजाये बैठे है

    भेड़ चाल में शामिल हो रहे है सब
    कमबख्त अपना अपना हुनर भुलाये बैठे है

    एक कागज का टुकड़ा इतना जरूरी हो गया
    सब अपना ईमान गवाएं बैठे है

    ऐसे ही क्या कम कमज़ोर थी बुनियाद इनकी
    जो बेईमानी से इसे और हिला बैठे है
    ©anushka_singh_panchhi