Grid View
List View
  • anshulaftaab 6w

    अब कोई ख़्वाहिश,
    कोई तमन्ना बाक़ी नहीं रही ;

    जब से तू आया,
    रात स्याह बाक़ी नहीं रहीं ।।

    "अंशुल"

    ©anshul

  • anshulaftaab 6w

    आवेदक की अभिलाषा

    चाह नहीं मैं भ्रष्टाचारी बन, अपना बैंक बैलेंस बढ़ाऊं;

    चाह नहीं कि प्रशस्ति के लिए, सब कुछ चुप चाप सहता जाऊं;

    चाह नहीं कि चाटुकार बन, सफलता के सोपान चढ़ता जाऊं;

    चाह नहीं मैं प्रशासन की, चुप चाप हाँ में हां मिलाता जाऊं;

    चाह नहीं मैं, प्रशासन का हर अत्याचार कर्तव्य के नाम पर सहता जाऊं;

    चाह नहीं कि, मैं अपने अधिकारों को तज़ नेताओं के आगे पीछे चक्कर लगाऊं;

    चाह नहीं मैं, ऑफिस में बैठे बैठे फाइलों के ढेर के ढेर यूं ही चुपचाप निपटाता जाऊं;

    मेरा रेज्यूमे ले लेना हे, कुलसचिव!

    उस फाइल में देना फेंक,
    प्रोन्नति की चाह रखने वाले जिस पथ जाए, कर्मनिष्ठ क्रांतिकारी आवेदक अनेक ।।

    "अंशुल"
    ©anshul

  • anshulaftaab 6w

    जो बिन माँगे मिल गईं,
    वो मुंहमाँगी मुराद हो तुम।

    "अंशुल"

    ©anshul

  • anshulaftaab 7w

    ज़िंदगी तू बेवफ़ा हैं,
    फ़िर भी तुझे, अहले–वफ़ा कहते हैं,
    तेरे दिए हर दर्द को,
    शफ़क़त कहा करते है,
    कहाँ मिलेगा, हम से वफ़ादार तुझको,
    तेरे इश्क़ में ख़ुद को, हम बीमार कहा करते हैं।

    "अंशुल"
    ©anshul

  • anshulaftaab 8w

    ज़िन्दगी तुझे अब कैसे जिया जाये...

    "अंशुल"

    ©anshul

  • anshulaftaab 8w

    कलयुग में है, जग बांवरा,

    ना कोई गुरु रहा, ना शिष्य...

    जिसका जितना जिनसे, स्वार्थ सधे,

    वो उसका उससे भी, कम रहेगा मित्र।।

    "अंशुल"

    ©anshul

  • anshulaftaab 8w

    सिर्फ़ रुख़सत में, फ़ुर्सत है,

    बाक़ी तो सिर्फ़, सफ़र में ही जीवन है।

    जो रुका है, वो कहाँ बचा है,

    चलने वाला ही, कुछ पा सका है।।

    "अंशुल"

    ©anshul

  • anshulaftaab 10w

    ज़िन्दगी तूने ग़म दिए, इसका कोई शिक़वा नहीं,

    अब थोड़ा वक़्त भी दे, कि ज़ख्म ज़रा भर जाएँ।।

    "अंशुल"

    ©anshul

  • anshulaftaab 14w

    We Are All Born As Random People. What We Do With Our Lives Makes All The Difference.

    "Anshul"

    ©anshul

  • anshulaftaab 15w

    Power of Questions

    By Asking Right Questions
    'a Man' Becomes


    "BUDDHA"

    #Philosophical Musings
    "Anshul"

    ©anshul