Grid View
List View
Reposts
  • anshikasandilya 7w

    जेहन

    जितना शहा हैं
    उतना कहा नही हैं !!

    दर्द को छुपाया बहुत हैं ।।
    जेहन में वो शक्स आया बहुत हैं ।।

    A@.......!

  • anshikasandilya 7w

    dastak.

    अब खाली सी लगती हैं
    ख्यालों की दुनिया ।।

    मुझमें वो शक्स ठहरा बहुत हैं ।।
    मैं दस्तक दू कयसे उसके दील में ।।
    उसमे ठहरा जो कोई और हैं ।।

    A@.........!

  • anshikasandilya 7w

    वो बेवजह मोहब्बत करने हीं तो आया हमें ।।
    वो सावला सा लड़का कुछ ईस तरह भाया हमें ।।

    A@........!

  • anshikasandilya 7w

    नाराजगी तो बहूत दूर की बात है !!
    हमें तो तुमसे कोई उम्मिद भी नहीं हैं!!

    A@........!

  • anshikasandilya 11w

    हर पल मिलनें की आस रहतीं हैं ।।
    तुम बिन जिन्दगी कुछ उदास रहतीं हैं ।।


    A@.......!

  • anshikasandilya 12w

    प्यार,,,***

    रब ना करे इस्क किसी को रुलाए !!
    प्यार करो उसी से जो तुम्हें ,,,
    दील की हर बात बताए !!!
    A@.......!

  • anshikasandilya 15w

    ''Yaro ..सायरी तो मैं अपने शौक के लिए
    करतीं हूँ !!
    वरना किसी के बाप के बेटे में इतना damm
    नहीं,,जो ईस नवाबजादी ‍को तोड़ सके !!

    A@.......!!

  • anshikasandilya 15w

    तुम मेरे साथ हो ,,ये मेरा भ्रम था !!
    तुम चलतें तो मेरे साथ हो !!
    पर किसी और की तलास में !!
    A@......!!

  • anshikasandilya 17w

    Jab ham apne aap ko achi
    Trah smjh lete hy ,,,,,,
    To dusre Kya smjhte hy ,,,,,
    It doesn't matter not at all !!!!

    A@......

  • anshikasandilya 18w

    कस्तिया कहाँ मना करती हैं तूफानों से टकराने को !!
    वो माझी ही डर जाता हैं ,,अपने आप को आजमाने से !!

    उम्र भला हमें कहाँ बूढ़ा करतीं हैं ।।
    ये तो हमी छोड़ देते हैं संघ उत्साह जवानी को !!

    मंजिलों की क्या हैसियत जो हमें न मिले !!
    हौसला हमारा जरूरी हैं ,,उनतक पहुँच जाने को ।।

    कोई मुसीबत भला इतनी बड़ी कैसे हो सकती हैं !!
    ये हम हैं जो मान बैठे हैं खुद को तसल्ली दिलाने को ,,
    ये वक्त भी गुजरेगा,,आने दो नये दौर जमाने को ।।

    A@,,,,,,