annu_dafaali

lavi❤️ luv lekhak

Grid View
List View
Reposts
  • annu_dafaali 25w

    इश्क☺️

    खूबसूरत चेहरे का दीदार तो सभी करते हैं। तुम मेरी रूह से जुड़ सको तो इश्क का इजहार करना।☺️ मुस्कुराते चेहरे का तो हर कोई दीवाना बन जाता है। तुम मेरी मुश्कान के पीछे के दर्द को समझने लगो तो इश्क का इजहार करना। खुशियाँ तो जमाने भर में बाटती हूँ। मैं☺️ तुम मेरे दर्द को बाट सको तो इश्क का इजहार करना। मैं कैसी हूँ क्या हूँ जितना मैंने बताया लोग मुझे उतना ही जानते हैं। तुम मुझे मुझसे ज्यादा समझने लगो तो इश्क का इजहार करना।❤️
    ©annu_dafaali

  • annu_dafaali 26w

    शामें

    उदास कर देती है ये शाम
    ऐसा लगता है
    जैसे कोई भूल रहा हैं,धीरे धीरे
    ©annu_dafaali

  • annu_dafaali 26w

    माँ❤️

    अगर कभी पूछे खुदा मुझे।
    बताओ क्या चाहती हो तुम।
    जो मांगोगी वही मिलेगा।
    तो में सर झुका कर कहूंगी।
    तू जैसे रखेगा खुश रहूंगी।
    बस एक हस्ती सम्हाल रखना।
    मेरी माँ का तू ख्याल रखना।
    ©annu_dafaali

  • annu_dafaali 31w

    Journey of life

    अपने दर्द से सदा के लिए कहा जुदा हो पाते हैं हम।
    एक दर्द छोड़कर बस दूसरा दर्द अपनाते हैं हम।
    रिश्ते निभाने का हुनर कहाँ सिख पाते हैं हम।
    एक रिश्ता तोड़कर बस दूसरे रिश्ते में ढल जाते हैं हम।
    अपनों के हिस्से का सच कब जीते हैं हम।
    अपने अधूरे सपने को जीते जाते हैं हम।
    किसी का साथ निभाना तो मानो जैसे भूल गए हैं हम।
    उसकी कुछ गलतियों को बस हर पल गिनवाते हैं हम।
    ©annu_dafaali

  • annu_dafaali 31w



    कोई मुझसे पूछ बैठा 'बदलना' किसको कहते हैं।
    सोच में पड़ गयी हूँ मिसाल किसकी दु।
    'मौसम' की या 'अपनों' की।
    ©annu_dafaali

  • annu_dafaali 32w

    लॉकडाउन

    रास्ते खुले होंगे।
    पर कही जा नही पाएँगे।
    जो दूर है उनको बुला नही पाएँगे।
    जो पास है उनसे हाथ मिला भी नही पाएँगे।
    कभी किसने ने सोचा था ऐसे भी दिन आएँगे।
    ©annu_dafaali

  • annu_dafaali 32w

    हम तुम

    मैं रूठी, तुम भी रूठ गए हो।
    फिर मनाएगा कौन?
    आज दरार है, कल खाई होगी।
    फिर भरेगा कौन?
    मैं चुप ,तुम भी चुप।
    इस चुपी को फिर तोड़ेगा कौन?
    छोटी छोटी बातों को दिल से लगा लोगे तो।
    फिर रिश्ता निभायेगा कौन?
    ना में राज़ी, ना तुम राज़ी।
    तो फिर माफ करके बड़पन दिखायेगा कौन?
    ज़िन्दगी नही मिलती हमेशा के लिए।
    कल कोई एक ना रहे तो फिर पछतायेगा कौन?
    ©annu_dafaali

  • annu_dafaali 32w



    वो पूछते हैं क्या नाम है मेरा।
    मैंने कहा बस .........अपना कहकर पुकारा लो।
    ©annu_dafaali

  • annu_dafaali 32w

    बारिश☔

    कही फिसल न जाऊँ तेरे ख्यालों में चलते चलते।
    अपनी यादों को रोको,मेरे शहर में बारिश हो रही है।
    ©annu_dafaali

  • annu_dafaali 32w

    बचपन

    वो बचपन ही अच्छा था,जो सरे आम रोते थे।
    अब जब एक आँसू भी आये तो लोग वजह पूछते हैं।
    ©annu_dafaali