anmol_muskan

One day you'll leave this world behind, so live a life you will remember!

Grid View
List View
Reposts
  • anmol_muskan 9w

    बस हाथ थामा और छोड़ दिया,
    बीच राह में ही मेरे ख्वाबों को तोड़ दिया।

    शायद मायने दोस्ती के सिखाये नहीं जाते,
    तभी तो ये नाज़ुक रिश्ते सबसे निभाए नहीं जाते।

    'कोई और मिल गया' ये जताना बेहद आसान था,
    जब तूने बोला की 'फ़र्ज़ नहीं, ये तुझ पर एहसान था'।

    'क्या खता थी मेरी?' इसी सवाल से जूझ रही थी,
    मैं हर शख्स से तेरे जाने की वजह पुछ रही थी।

    पर शुक्रिया मेरी खुद से मुलाक़ात करवाने का,
    शुक्रिया असलियत जल्द ही दिखाने का।

    शायद आती ही नहीं करने हमे ये दोस्ती,
    मेरी आज भी ये सोच है, और कल भी यही सोच थी।

    ©anmol_muskan

    When once best friends...became strangers with memories♥️
    #relatable #yaarana

    Read More

    .

    शायद, आती ही नहीं करने हमे ये दोस्ती!

  • anmol_muskan 10w

    वो बहुत खुश हुई थी तुम्हारे जन्म पर,
    भावों का सैलाब था उमड़ा सीमा चरम पर।
    मिठाईयाँ भी तो बटवाईं थी उसने, कुछ पैसे बचाकर,
    खुद पहने थी पुरानी साड़ी पर रखती तुम्हे सजाकर!
    "क्या करुँ, माँ जो हूँ "- वो हर नादानी को छुपा लेती,
    "बच्चा है, जाने दो" वो तुम्हे पापा की डाँट से बचा लेती।।

    समय की घड़ी चलती रही,
    उम्र माँ की ढलती रही!
    पर थकान का एहसास उसने तुम्हे ना कराया,
    बिमार होती, फिर भी रोज़ टिफिन तुम्हारा बनाया।
    वो मन से कुछ ज़्यदा ही मज़बूत है,
    सच में "माँ देवी का रूप है"!

    घर तुम्हारा बसा कर वो खुद अकेली रह गयी,
    कड़वे से कड़वा दर्द वो मुस्करा के सह गयी!
    "बेटा, फ़ोन कर लिया करो" हर बार वो कहती थी,
    "हाँ माँ, करूँगा " सुनकर उसी इन्तज़ार में रहती थी!

    फिर समय एक ऐसा भी आया था,
    जब माँ को बेबस अस्पताल में पाया था।
    वो बुलाती रही, कि बेटा इन्तज़ार मैं करती हूँ,
    अब तो मुश्क़िल से ये हाथ मैं तेरे माथे धरती हूँ।
    पर समय कहाँ तुम्हारे पास, तुम अपनी दुनिया में व्यस्त हो,
    आज भी पुछ रही थी, "बुखार था न, अब स्वस्थ हो?"

    तेरा जीवन है जिसका ऋण, उसी के प्रति स्वार्थी हो गया?
    "माँ, वक़्त बहुत कीमती है मेरा" बोलकर क्षमाप्रार्थी हो गया?

    कुछ क्षण तो इस बुढ़ी काया के साथ गुज़ारो,
    जाओ ज़रा उसे माँ कहकर पुकारो।
    साथ मत छोड़ना उसका, ये मेरी तुमसे विनती है,
    दवा से नहीं, प्रेम से बढ़ती उम्र की गिनती है।।
    ©anmol_muskan

    #hindinama

    Read More

    माँ

    आखिर माँ तो माँ ही होती है न!♥️

  • anmol_muskan 10w

    आवाज़ - कभी सुनी नही!
    असलियत में कभी आपसे मिली नहीं!

    पहचान सिर्फ चंद पंक्तियों से हुई,
    और रोज़ हालचाल से बातें करने का बहाना मिल गया,
    Mirakee पे लेखन के सहारे, मुझे भाई का साथ सुहाना मिल गया!

    मेरी ज़िंदगी की हर एक परेशानी को सुलझाते हैं,
    उतनी खास तो हूँ नहीं, जितना भाई मुझे एहसास दिलाते हैं!

    ये रिश्ता ना, अल्फाज़ों का मोहताज नहीं,
    भैया, आपके साथ की कीमत का आपको कोई अन्दाज़ नहीं!


    @rupanshu_saneedip

    Read More

    .

    Happiest B'day ever bhaiya♥️

  • anmol_muskan 20w

    Dear Well Wisher

    As we witness, this year slipping through soon,
    Realized how 2020 left us in stillness of the moon.
    I crave for something precious, will you grant?
    Umm, should I ask, or maybe I shan't !

    Accept my apology for all such deeds,
    When I wasn't a consoler in your bleeds.
    Accept my apology for all such days,
    When I was oblivious of your greys.
    SORRY!

    Let me take this give and take further,
    Let Sunshine bless this bond to nurture.

    THANK YOU!
    In the dimmest of lights,
    In my dreadful frights,
    In all the greatest of flights,
    In the mood swing sights,
    You made me smile...smile my heart out!
    I remember your silent "YOU CAN" shout.

    My merry days and you used to twinkle,
    On this lil cake, you were the sprinkle.
    Supported me in every way you could,
    You held me firm, while walking through the wood.
    Then came the times when I wasn't with me.
    You lit my lamp, so far I could see!

    All I want is YOU again...
    Will you be my umbrella, in one more rain?♥️
    ©anmol_muskan

  • anmol_muskan 23w

    बेहद उम्दा कवि, श्री अमिताभ बच्चन जी के कविता से प्रेरित।����

    Read More

    मैं

    आग की लौ लपट नहीं,
    अन्धेरी के चिराग सा मैं,
    दिन के धूमिल क्षणों में,
    हूँ गतिपूर्ण प्रयाग सा मैं।

    तुम कब तक मुझको रोकोगे?
    मैं अनंत प्रयास लगाऊँगा ।
    तुम कब तक मुझको रोकोगे?
    मैं पुन: त्वरित हो जाऊँगा ।

    तुम मुझपर पत्थर फेंकोगे,
    मैं उन्ही से महल बनाऊंगा ।
    तुम जब जब मुझको "ना" कहोगे,
    मैं तुम्हे असत्य सिद्ध कर जाऊंगा!

    गर मैं ना कर सका तो कैसे और कौन करेगा?
    मेरा परिश्रम अवश्य ही असफलता को मौन करेगा!

    तुम कब तक मुझको रोकोगे?
    मैं गिर गिर के फिर उठ जाऊँगा!
    तुम जब जब भट्टी में झोंकोगे,
    मैं स्वर्ण सा निखरता जाऊँगा!
    ©anmol_muskan

  • anmol_muskan 26w

    Happy Diwali✨��

    Read More

    Happy Diwali✨

    In this festival of lights, may our dreams and aspirations sense a tint of fulfillment and success.
    This Diwali, let's celebrate...
    Let's celebrate Light
    Let's celebrate Love
    Let's celebrate Togetherness
    Let's celebrate Happiness
    Let's celebrate Perseverance
    Let's celebrate Zeal
    And Most importantly, let's celebrate OURSELVES!❤
    Let's instigate dreaming, blooming, flying, falling, rising, and shining
    Let's revive the long lost Ram in us!
    And amist all these tough times, once again...let's start living!

    ©anmol_muskan

  • anmol_muskan 29w

    Happy birthday Gunjit!���� @gunjit_jain
    May this day bring a lot of smiles and happiness to you, my dear friend. Wishing you a great and grand birthday! You celebrate this day as your birthday, and we'll celebrate Mr. PERFECT day!��❤

    Read More

    हर्फ़ के बेताज बादशाह के लिए हम क्या ही शब्द पिरोएंगे,
    आप जैसा तो नहीं लिखना आता, पर कुछ यादें ज़रूर संजोएंगे!

    लेखक यहाँ जितने भी हूज़ूर हैं,
    सबके लबों पर "गुंजित" नाम तो ज़रूर है,
    हर मुसीबत का साथी, बन चुका हम सबका गुरूर है!

    आसमान की ऊंचाईयों कर नाम हो आपका,
    खुदा दुआएँ बख्शे, और बेहतरीन हर काम हो आपका,
    छोटी सी तो दुनिया है...फिर भी एक दिन सारा जहान हो आपका!

    ~मुस्कान~

  • anmol_muskan 33w

    @chinmoy781125

    A wonderful person as such...
    Can't be praised in mere words much!

    May your life brighten up more...
    You have been the sea of our shore!

    In this globe, glad that I have you...
    My mentor, a guide and a brother too!

    Enjoy as much as you can...
    And please start inking again, - I request as your fan!

    Muski will reach you out soon...
    Till then, Love You to and fro the moon!

    --MUSKAN♥️

    Dear positive warrior ,
    Thanks for being my minister .

    You are more positive than the protons ,
    You are the inspiration that I m Amazon .

    You ooz positivity like a sun of noon ,
    You company as soothing as sitting under moon .

    I, Amazon will guard you from bad vibes ,
    My love and blessings for you soo sooo soo high .
    Happiest Birthday wish bhaiya form alll the sun moon and sky.

    --KRITI♥️

    Read More

    Happy Birthday!!

    ♥️Chinmoy Bhaiya♥️

  • anmol_muskan 36w

    Happy Teacher's Day! All the efforts and hard work you've invested to bring out the best in us can never be repaid in mere words. Taught us like a teacher, protected us like our parents and guided us like a mentor! ����

    Read More

    HAPPY TEACHER'S DAY!

    गुरु - एक ज्ञान का भण्डार।
    गुरु - जीवन में नयी उम्मीद का संचार।।

    आपके सूरज जैसे ज्ञान प्रकाश का शुक्रिया!
    मेरी आँखों को दिखाने इस सतरंगी आकाश का शुक्रिया!
    मुझे शिष्या के रूप में स्वीकारने का शुक्रिया!
    हर गलती पर मुझे सुधारने का शुक्रिया!
    "मैं कर सकती हूँ" ये बताने का शुक्रिया!
    मुझमें विश्वास जताने का शुक्रिया!
    मुझे राह दिखाने का शुक्रिया!
    मुझे मेहनत करना सिखाने का शुक्रिया!

    निरंतर प्रयास करूँगी आपको खुश करने का।
    प्रयास- आपकी उम्मीदों पर खरी उतरने का।।
    ©anmol_muskan

  • anmol_muskan 39w

    ऐ वतन वतन मेरे आबाद रहे तू!
    मैं जहाँ रहूँ जहाँ में याद रहे तू!
    पहुँचू मैं जहाँ भी मेरी बुनियाद रहे तू!

    ��������Happy independence day to all of u...��������
    Sarfaroshi ki tamanna ab hamare dil mein h dekhna hai zor kitna baazu-e-qaatil mein h ����
    A salute to the soldiers who risk their lives for our country����
    जय हिंद जय भारत!
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ����

    Read More

    हिंदुस्तान!

    अनेकता में एकता की दृष्टांत हूँ!
    मैं विश्व के साथ खड़ी होकर भी एकांत हूँ!
    मैं संस्कृतियों की वसुधा हूँ!
    मैं ही राम-रहीम वाहेगुरु और बुद्धा हूँ!
    मैं अनेकोनेक शौर्यों की धात्रा हूँ!
    मैं 200 सालों की बन्दिश से आज़ादी तक की गाथा हूँ!
    मैं खुद की बनी बनायी पहचान हूँ!
    हाँ, मैं ही भारत, आर्यावर्त, हिंदुस्तान हूँ!
    ©anmol_muskan