anjuman_e_alfaaz

www.instagram.com/anjuman_e_alfaaz?r=nametag

Dukh dard or pyar wafa Ye to mere apne hai Likh deta hu dhadkan se Ye dil me mere jo baste hai

Grid View
List View
  • anjuman_e_alfaaz 40w

    Karma

    Karma is superior
    No-one can escape from its action
    Whether it is me, you or someone else
    ©anjuman_e_alfaaz

  • anjuman_e_alfaaz 47w

    यादें

    आज बची हुई यादों को मिटा दिया
    जिसका कोई वजूद नहीं
    अब उसको भी दिल से निकाल दिया
    ©anjuman_e_alfaaz

  • anjuman_e_alfaaz 47w

    दोस्ती

    चल इस बात को यही खत्म करते है
    फिर से प्यार की शुरुआत दोस्ती से करते है
    ©anjuman_e_alfaaz

  • anjuman_e_alfaaz 49w

    देश

    जुंबाँ पर ताला कैसे लगाऊ
    चाभी नहीं है
    आज देश की हालत
    किसी बर्बादी से कम नहीं है
    ©anjuman_e_alfaaz

  • anjuman_e_alfaaz 52w

    शीशां और दिल

    मैंने शीशें की तरह उसे अपने दिल मे छुपाया था
    मगर..............
    शीशां हो या दिल हो आखिर टूट जाता है
    ©anjuman_e_alfaaz

  • anjuman_e_alfaaz 54w

    इश्क का खेल

    ये इश्क का खेल, चारो ओर बिखरा है
    न कोई हारा न कोई जीता
    हर किसी ने इसे मज़ाक समझा हैं
    ©anjuman_e_alfaaz

  • anjuman_e_alfaaz 55w

    अक्सर

    जो दिल के ज्यादा करीब होता है
    अक्सर दुःख भी वही ज्यादा देता है
    जैसे दिसम्बर और जनवरी है तो पास
    मगर फासला एक साल का होता है
    ©anjuman_e_alfaaz

  • anjuman_e_alfaaz 58w

    हक

    मैं किसी को मतलबी कहूं
    ये मुझे हक नहीं
    मैं तो खुद मुसीबत मे
    अपने खुदा को याद करता हूँ
    ©anjuman_e_alfaaz

  • anjuman_e_alfaaz 67w

    समझ

    जनता हूं दुनिया को दुनियादारी की समझ रखता हूँ ,
    मैं इन मुखौटों मे अच्छे - अच्छों की खबर रखता हूँ
    ©anjuman_e_alfaaz

  • anjuman_e_alfaaz 67w

    दामन

    अक्सर तन्हाइयों मे गूंज तेरी सुनाई देती है
    परछाई तेरी जो कभी मेरी हुआ करती थी
    वो भी अब दूर दिखाई पड़ती है
    माना खता मुझसे हुई मगर थोड़ी कमी तो
    तेरे दामन मे भी दिखाई पड़ती है
    ©anjuman_e_alfaaz