Grid View
List View
Reposts
  • alkatripathi 13w

    जीवन में थोड़ा भय जरुरी भी है.....

    Read More

    भय..

    भय मृत्यु का,,, जीवन करता रक्षित
    भय गलती का,,, राह बनाता सुरक्षित
    भय रोग का,,, दिनचर्या रखता संयमित
    भय दुःख का,,,, मार्ग होता नियोजित

    ©alkatripathi

  • alkatripathi 13w

    सबसे पहले युवी रावत जी को धन्यवाद देती हूँ rachanaprati की बागडोर एक बार पुनः देने के लिए और धन्यवाद बिहार को मान देने के लिए

    हम सब किसी न किसी की काफ़ी तारीफ़ करते है,, आज आप सब स्वयं की तारीफ़ कीजिए,, अपने किसी भी गुण की,, “किसी भी रूप में स्वयं की प्रशंसा" आज का विषय है

    कल शाम को विजेता का नाम घोषित करुँगी। धन्यवाद
    ©alkatripathi

  • alkatripathi 13w

    #rachanaprati71
    @yuvi7rawat



    बिहार, विहार का विकृत नाम है
    बौद्ध विहारों की अधिकता से विहार नाम पड़ा था, जिसका शाब्दिक अर्थ है मंदिर या मठ...

    कुछ शब्दों में किसी भी राज्य के विषय में लिखना असंभव है....

    Read More

    बिहार.

    ये गाथा है बिहार की
    अभूतपूर्व निर्माण की
    बुद्ध, महावीर की जननी
    ये धरती है संस्कार की
    ये गाथा है बिहार की

    चन्द्रगुप्त, अशोक जैसे राजा
    के शौर्य और पराक्रम की
    चाणक्य के नीति और ज्ञान की
    ये गाथा है बिहार की

    नालंदा, तक्षशिला जैसे
    पौराणिक ज्ञान के भंडार की
    आर्याभट्ट के सम्मान की
    ये गाथा है बिहार की

    गुरु गोबिंद के पावन चरणों की
    छाप है उनके दिए संस्कार की
    माता सीता की मिट्टी है ये
    इनमें छुपी कथा उनके त्याग की
    ये गाथा है हमारे बिहार की

    श्री रामधारी सिंह दिनकर,
    श्री फनिश्वर नाथ रेणु
    श्री रामवृक्ष बेनीपुरी
    श्री गोपाल सिंह नेपाली
    ऐसे कितने और विद्वान हुए
    ये धरती है विद्वानों की
    ये धरती है महानों की
    ©alkatripathi

  • alkatripathi 13w

    “तुम”

    मुझे जीने की इक्छा नही
    और तुम मरने देते नही
    मैं हँसना चाहती नही
    तुम रोने देते नही

    ©alkatripathi

  • alkatripathi 13w

    आज आसमान बहुत साफ था
    तारे भी ख़ूब चमक रहे थे
    बादल भी मेरी आँखों की तरह
    बरस बरस कर थक गए थे
    ©alkatripathi

  • alkatripathi 13w

    अफ़सोस

    कुछ अंग ज़िस्म के मैखाने में छोड़ आए है
    लड़खड़ाते क़दमों से फिर घर लौट आए है

    ©alkatripathi

  • alkatripathi 13w

    एक मकान को घर बनाया जो मिलकर साथ मेरे
    दीवारों पर उकेरा था अपने हाथों से नाम को मेरे
    बरसों बाद आज वही पूछते हैं घर का पता मेरे

    ©alkatripathi

  • alkatripathi 13w

    बेशुमार दर्द, सीने में दहकते आज भी हैं..
    मगर अब वो अपने से लगते है..
    ©alkatripathi

  • alkatripathi 13w

    ससुराल


    मीता का ससुराल की रसोई में पहला दिन था, खाना वो अच्छा पकाती थी मगर थोड़ी डर के कारण की खाने का स्वाद सबको पसंद आएगा की नही, खाने में वो स्वाद नही आया जो सब की उम्मीद थी,,, सास ने कह दिया ना जाने इसकी माँ ने इसे क्या सिखाया है...

    मीता के ससुर जी मीता के घर से मिले कपड़े पहन दोस्त के घर गए दोस्तों ने मज़ा लेते हुए कह दिया यार ये तेरे टेस्ट का नही,, बस घर आकर मीता को सुना दिया की तुम्हारे घर वालों को कपड़े भी खरीदना नही आता, जब पैसे खर्च नही करने थे तो देते ही नही तौफे..

    छोटी ननद पढ़ रही थी,, मीता से गलती से उसके टेबल पर थोड़ा पानी गिर गया,,ननद ने सुना दिया आपने तो कुछ किया नही भईया के सर पे बैठी हो, चाहती हो मैं भी ऐसी बन जाऊं...

    मीता जब भी राज ( मीता का पति ) से कुछ कहती या रोती तो राज बड़े प्यार से समझाता, ये घर है परिवार के लोग हैं थोड़ा बहुत कुछ कह दिए तो उसका बुरा नही मानते..

    सही बात थी घर हैं परिवार हैं छोटी छोटी बातों का बुरा नही मानते

    मीता की तबियत ससुराल वालों की लापरवाही से जब काफ़ी ख़राब हो गई थी,, मायके गई उसकी माँ ने तकलीफ़ में राज से कह दिया की आपको तो कम से कम इसका ध्यान रखना चाहिए था...

    Read More

    आप कहना चाहती हैं हमसब इसको torture करते हैं,, बस बहुत हुआ मीता चलो,, मीता हॉस्पिटल से अभी आई थी सोच में पड़ी की क्या करुँ,, राज ने कहा अगर यहाँ रहना हैं भूल जाओ मुझे,, मीता की माँ ने कहा जा बेटा वही तुम्हारा घर है..

    आज सात साल हो गए मीता को अपनी माँ से बात किए,, मीता हर पल यही बात सोचती हैं काश राज भी ये बात मानते की घर हैं परिवार के लोग हैं..
    छोटी छोटी बातों का बुरा नही मानते...

    ©alkatripathi

  • alkatripathi 13w

    अब तो समय भी तानें मार रहे हैं
    मुसीबते भी मुझे ललकार रही हैं
    .
    .
    .
    .
    डटकर इनसे मुझे लड़ना होगा
    खुशियाँ भी छुपकर बुला रही हैं
    ©alkatripathi