Grid View
List View
Reposts
  • abhilashi 5w

    Is it really too much to ask for?

    I just want to be free like firefly
    And I want to sparkle like night sky
    I know I can't have it all,
    But is it really too much to ask for?

    I know I am "Strong" and magic is too cliché for me,
    But I am witnessing broken hope as far as I can see,
    So I just secretly wish for a miracle to give me hope,
    And I built a fantasy world to elope
    I know I can't have it all,
    But Is it really too much to ask for?

    I know I am supposed to a civilized woman with proper etiquette,
    But I have a wardrobe full of dilemma covered attire,
    I just want to grow like wild dandelions on some rocky rough surface,
    And I dream of touching all unchartered space,
    I know I may sound insane,
    That I want to be words that everyone can comprehend,
    I know I can't have it all,
    But Is it really too much to ask for?

    ©abhilashi

  • abhilashi 21w

    शीर्षक : बचपन की कहानी
    जिंदगी का एक सुन्दरतम नया रंग देखा है मैंने,
    आभाव में गुनगुनाते दोस्तों का संग देखा है मैंने,
    खाली बदन बस आधे निकर में, उन्हें खिलखिलाते देखा,
    अपनी ही धुन मैं मस्त, उन्हें गाते हँसते मुस्कुराते देखा,
    हर छल से परे उनकी भोली मुस्कान जैसे जीवन का दर्पण हो,
    और ऐसी हर हँसी पर जिंदगी का हर लम्हा अर्पण हो,
    उन बच्चों के खिलखिलाते चेहरों को देख लगा की जैसे बरसों बाद जिंदगी सुकून से मिल आयी है,
    और बेरंग सी उदास फ़िज़ाओं में बचपन की चटक लालिमा सी फिर छायी है,
    और उनकी निश्छल किलकारियों से बेज़ार होते मेरे शब्दों को रवानी सी मिल गयी,
    जैसे बादलों के बीच से निकल सूरज की केसरी छाया क्षितिज और सागर में घुल गयी।
    © जया अजीती सर्राफ

  • abhilashi 22w

    जीवन की ये अजीब दास्तान है,
    गम की गहराती भीड़ है और खुशियां चंद पलों की मेहमान हैं,
    मायूसी के अंधेरों में घिरा आज ये जहान है,
    फिर भी जिंदगी उम्मीद का कोई जरिया ढूंढ लाती है,
    निराश अंधेरी रातों में आशा के दीप जलाती है,
    और फिर निकल कर किसी एक सुबह गहरे काले बादलों से बाहर,
    जिंदगी सूरज सा मुस्काती है।
    ©abhilashi

  • abhilashi 31w

    The Unseen struggle

    "I have fought my demons and fear,
    I have conquered the bigger battles too"
    This is what I think everytime, when it becomes impossible to process all the emptiness that grows inside me whole night through,
    I had this perfect plan for my life, but everything seems to fall apart as the days grew,
    Some time I laugh too much, and most time I just go through the act,
    Everyone thinks I am emotional or hormonal, when I decide to react,
    I was being shushed about things that seemed so natural to me,
    No body really cares to notice the obvious as I see.

    I bleed for 7 days, and still manage to smile,
    Blood doesn't scare me, nor do the physical pain,
    But days prior to bleeding are the ones when darkness invades my every vein,
    Those are days when I plan my every step and still fail to follow,
    Those are the days when my every shushed thought makes me feel hollow,
    And I just keep pushing, and try to make it through every other day,
    I really don't know how to explain what I feel, or whom to say,
    I become trapped in my mind, like a rat in a maze,
    And I keep trying to escape from the terrifying worlds that my brain creates,
    I am no war hero, but those days I struggle against my own dark image.

    I hear my own heart beat,
    I feel inside this burning heat,
    And Every cell in my body aches,
    That time I cry out loud alone,
    Then put a smile on my face, meet people and tag along,
    I am far from perfect,
    But I am a warrior who survives a battle every day,
    And I will keep struggling to reach the end line on my way.
    ©Jaya Ajiti Sarraf

  • abhilashi 32w

    राहें वादा नहीं करती मुसाफिरों से मंजिल तक ले जाने का,
    जिंदगी तो नाम ही है ख्यालों का बेतरतीब तरीकों से बिखर जाने का,
    उमर बीत जाती है बस एक छोटी सी बात समझने में,
    जीवन कहानी है सदियों के कोलाहल में बस दो पल सुकून पाने का।
    ©abhilashi

  • abhilashi 33w

    Prem ko jita ya hara nahi jata,
    Prem ko dhundha bhi nahi jata,
    Prem to bas ehsaason me bandha hota hai,
    Jese balon me beli ke ful, ya kano me Bali jese,
    Prem rango or khushbu ki tarha ghula rehta hai jivan me,
    Jese vasant ki mehakti subha ya fir holi sa koi ek din,
    Prem ko pane ya khone jesa kuch nhi hota,
    Jo rach bas Jaye lamhon ke har pehlu me,
    bas wahi khubsurat anubhuti hai prem!!!
    ©abhilashi

  • abhilashi 42w

    उसके रूठने से जैसे मौसम की हर रुत उदास लगती है,
    उसके चेहरे की शिकन देख कलियां नाराज सी लगती हैं,
    उसकी हसीं से रंग चुरा कर, सुबह की धूप जैसे सुनहरी नजर आती है,
    और उसकी आंखो की नमी जैसे बदल बन बरस जाती है,
    उसके गुमसुम रहने से लगता है जैसे तारे भी ख़फा हैं,
    और उसे महसूस करके लगता है जैसे हर फिज़ा में वफ़ा है,
    वो मेरे शब्दों को ऐसे अर्थ दे जाता है, जैसे सूरज के छूने से, पंखुड़ियों का रंग निखर सा आता है,
    वो नाम है उन सारी कही अनकही बातों का, जज्बातों का,
    जो अक्सर आँखों में आंसू और होठों पर मुस्कान दे जाती है,
    वो निशान है, उन अव्यक्त अपरिभाषित एहसासों का जो मेरे अस्तित्व की पहचान बनाती है।
    ©abhilashi

  • abhilashi 43w

    Uski bholi masum hasi jese har marj ki dawa hai,
    Uska mere jivan me ana jese kabul hui meri har dua hai,
    Us nanhi se jaan se ab mera pura sansaar hai,
    Vo mere jivan ke prem ka ek sundar sa saar hai.
    ©abhilashi

  • abhilashi 45w

    Tumse ruthna, tumhe manana,
    Tumhare sath hasna, rona, khilkhilana,
    Yadon ka ek kissa tumhare sang bitana,
    Tumhara meri zindagi ka hissa ban jana,
    Aur Tumhara mere jazbaton se jud jana,
    Tum ho to mere lafzon ke mayne hai,
    Tum bin yaar mere, mere lafz bhi sare mujhse jese anjane hai,
    Aur tumse hi meri zindagi ke sare gam bhi suhane hai.
    ©abhilashi

  • abhilashi 46w

    मेरी कहानी !

    उसे हंसता देख एक मुस्कान होठों पर खुद बा खुद आ जाती है,
    उसके अधरों को छू कर जैसे मेरी बैचैनिया राहत सी पाती हैं।
    वो अपने दो नयनों में कई मासूम भाव लिए रहता है,
    परवाह बेहद करता है, पर बहुत कम कहता है।
    वो थक कर अक्सर मुझे अपनी बाहों में भर सो जाता है,
    और कभी मेरी गोदी में सिर रख कर अपनी दुनिया में खो जाता है।
    उसके प्रेम ने मुझे प्रेम का अर्थ सिखाया है,
    बिन कहे हर संवेदना को समझने कि राहा दिखाया है।
    वो मेरे सम्पूर्ण ब्रम्हांड के असीम विस्तार सा है,
    वो जैसे मेरे ख्यालों के अनूठे संसार सा है,
    वो नाम है मेरे हर अपरिभाषित ख़्वाब की,
    वो मक़ाम है मेरे हर सफ़र के शाम की।
    वो मेरे अभिलाषाओं की निशानी है, और
    वो मेरे ही शब्दों में मेरी अनकही कहानी है।
    ©abhilashi