Grid View
List View
Reposts
  • _suruchi_ 4w

    Note: Charlotte: spider from the book Charlotte's web.

    Read More

    As we land into charlotte's web
    A song that spider weave
    Catching all the misty dew
    A shiny pearl of hue

    Tiny diamonds sparkling by,
    Holding hands to dance around
    Puzzling gossamer spinning round
    Singing hungry hound

    Charlotte went for a little walk
    Offering smiles and lazy talks
    As it returns all along
    Weaves its favorite song

    Creating universe with tiny limbs
    Weaving a whole new song
    Charlotte's just taking a little pause
    As little spiders join along...
    ©_suruchi_

  • _suruchi_ 4w

    #combination
    Set a: call me wind if you do please..
    Set b: seek

    Call me wind if you do please...
    Seek me some leaves and feathers to tease
    Let me pop the bubbles you blew
    They're meant to pop
    Along with the breeze

    Call me a crazy little lad
    Show me the hat you always had
    And those classy dark glasses
    Offering penny for forest grass...

    Call me a cloud if you do please...
    Seek me some droplets from the Creek
    Let me shower all around
    And sow some seeds to flower the ground...

    Call me moon or a mountain...
    Seek me steam or a fountain
    Let me stand still and watch
    As the wild berries are fetched...

    Read More

    Call me wind if you do please...
    Seek me some leaves and feathers to tease
    Let me pop the bubbles you blew
    They're meant to pop
    Along with the breeze

    Call me a crazy little lad
    Show me the hat you always had
    And those classy dark glasses
    Offering penny for forest grass...

    Call me a cloud if you do please...
    Seek me some droplets from the Creek
    Let me shower all around
    And sow some seeds to flower the ground...

    Call me moon or a mountain...
    Seek me steam or a fountain
    Let me stand still and watch
    As the wild berries are fetched...
    ©_suruchi_

  • _suruchi_ 7w

    गीता तो है ज्ञान का सागर,
    तीनो लोक का भंडार अनोखा।
    सुधबुध हर ले यह प्रश्न जरासा,
    कृष्ण है गीता या कृष्ण है राधा।।

    राधा ठहरी प्रेम दीवानी,
    जीवन भर बस कृष्ण ही देखा।
    गीता फिर भी पूर्ण कहलाती,
    गीता का हर ज्ञान है राधा।।

    संसार की देखो रीत निराली,
    जाने गीता कहलाये ज्ञानी।
    कृष्ण की प्राणप्रिया है राधा
    राधा कृष्ण है और कृष्ण ही राधा।।

    गीता का हर शब्द है कृष्ण,
    तो कृष्ण का हर शब्द है राधा।
    राधा कृष्ण की सांस मैं बसती,
    कृष्ण की धड़कन राधा राधा।।
    ©_suruchi_

    Read More

    .

  • _suruchi_ 9w

    As the birds seek shelter
    The trees are kind and calm
    As the chirping birds fly
    The trees need not sigh
    For the birds are seasonal gifts
    But trees never move
    Loving soil with all their might
    Over the sky they bloom...

    Read More

    As the birds seek shelter
    The trees are kind and calm
    As the chirping birds fly
    The trees need not sigh
    For the birds are seasonal gifts
    But trees never move
    Loving soil with all their might
    Over the sky they bloom...
    ©_suruchi_

  • _suruchi_ 12w

    आँखे शोर मचाती है
    और ज़ुबान खामोश हो जाती है।
    लफ्ज़ ढूंढते है गहराइयाँ इन सन्नाटों की
    और ख्वाहिशे, सफर पर चली जाती है।
    समंदर तैर कर या बादलों के उस पार,
    रेंत की लकीरोंसे जैसी आये हँसी की फ़ुहार।
    एक अनजानसा कोई अपना डेरा जमाती है।
    लो फिर ये दिल अपनी करवट बदल देता है..
    हम रह जाते है फिर हैरान परेशानसे
    जब ये आँखें शोर मचाती है
    और ज़ुबान खामोश हो जाती है।

    कुछ कहने करने से परेशानिया कहाँ हल हुई आजतक
    कही मिल जाये जिंदगी और खुशी साथ में
    तो पूछ लेना, किस दरवाजे पर दे आयी दस्तक।
    ©_suruchi_

    Read More

    आँखे शोर मचाती है
    और ज़ुबान खामोश हो जाती है।
    लफ्ज़ ढूंढते है गहराइयाँ इन सन्नाटों की
    और ख्वाहिशे, सफर पर चली जाती है।
    समंदर तैर कर या बादलों के उस पार,
    रेंत की लकीरोंसे जैसी आये हँसी की फ़ुहार।
    एक अनजानसा कोई अपना डेरा जमाती है।
    लो फिर ये दिल अपनी करवट बदल देता है..
    हम रह जाते है फिर हैरान परेशानसे
    जब ये आँखें शोर मचाती है
    और ज़ुबान खामोश हो जाती है।

    कुछ कहने करने से परेशानिया कहाँ हल हुई आजतक
    कही मिल जाये जिंदगी और खुशी साथ में
    तो पूछ लेना, किस दरवाजे पर दे आयी दस्तक।
    ©_suruchi_

  • _suruchi_ 14w

    पहली बार ऐसा हुआ
    की बारिश की बूंदे भी चुप सी थी
    न कोई शोर न हलचल मची मन मे
    बस चुप चाप बरसती रही

    जब भी देखु उन्हें
    कुछ शोर याद आते है
    वो बाढ़ का तांडव
    और मासूमों का सुलगना

    जिंदगी से लगते थे यह मुझे
    हर बार जिंदा कर जाते थे
    न जाने कहाँ खो बैठे जिंदादिली
    कुछ अजनबी से लगने लगे है

    और मैं, फिर मस्त,अपने ही आप मे
    न कोई शिकायत, न है कोई आरजू
    बस बरसना है चुपचाप
    इन बूँदों की तरह..

    Read More

    पहली बार ऐसा हुआ
    की बारिश की बूंदे भी चुप सी थी
    न कोई शोर न हलचल मची मन मे
    बस चुप चाप बरसती रही...
    (Caption)

    ©_suruchi_

  • _suruchi_ 15w

    परबत की चोटी पर हो नान्हासा बसेरा
    इस जहॉं से दूर एक सपना सुनहरा
    पेट भर हो खाना उतना ही उगाऊ
    संग प्राणी पंछियों के मैं जीवन बिताऊँ
    न परख किसी की और न हो आरजू
    दूर इस भीड़ से मैं खुदको कहि छिपाऊँ
    जो चाहूँ कारु न वक्त का पता हो।

    झूला मैं झुलू , लहरों से खेलु
    कलियों से, फूलों से महके मेरा घर
    वृक्षों पर बैठे पड़ोसी वे नन्हे,
    दावत पर आए, चहके वे गाए
    हातों से खिलाऊ, बाते बताऊ
    हो रोशन हर एक मन, खुशियों की लौ से
    शांति ही मेरे हो घरकी गरिमा।

    न लालच की रेंग , न ईर्षा की बदबू
    न हो घृणा, बद्दुआओं का साया कही पर
    गुस्सेल बदले के अग्नि का तांडव
    न ढूंढ पाए मेरे सपनों का आँगन
    जहरीले शब्दों की नाखून से बचूं
    रहू दूर सबके विचारो ख़यालों से
    रहे दूर ये दुनिया मेरे सपनों के जहाँ से।

    हो प्रिय हर चीज नजदीक मेरे
    फिर भी न झांके ये दुनिया की नज़रे
    बस इतनी सी दुनिया हो
    खुशियों का जहाँ हो
    बस प्यार की बोली
    और सपनों का ठिकाना हो
    परबत की चोटी पर नान्हासा बसेरा हो।
    ©_suruchi_

    Read More

    ...
    परबत की चोटी पर हो नान्हासा बसेरा
    इस जहॉं से दूर एक सपना सुनहरा...

  • _suruchi_ 15w

    The sun, the moon
    The stones on ground
    Existence is proved
    by shadows and sound
    Silence itself has language to speak
    Shadows say, you do exist.
    The light of success
    you ignite and burn
    Shadows hold potential
    To twist and turn
    Glorious and gay , enlightened: day
    Night, darkness you call it
    Is the shadow of day!

    Read More

    The sun, the moon
    The stones on ground
    Existence is proved
    by shadows and sound
    Silence itself has language to speak
    Shadows say, you do exist.
    The light of success
    you ignite and burn
    Shadows hold potential
    To twist and turn
    Glorious and gay , enlightened: day
    Night, darkness you call it
    Is the shadow of day!
    ©_suruchi_

  • _suruchi_ 16w

    Where the world is busy
    Creating future scientist
    Mathematicians and other genius
    I search the tiny treasures of life

    The innocent excitement of eyes
    Smiling at the colours of sky
    Shaping the clouds wild
    Floating in the ocean, up high!

    Blushing 'touch me nots'
    With the tapping raindrops
    And Feet, dancing merrily,
    Giggles, spilling silly crocks!

    Counting fireflies
    And the colours splashing by
    As the butterfly visit flowers
    Singing songs with chirping birds

    Not bothering them
    with the molecules or
    Tension of the suface
    Or even the static energy per se

    At this little age
    meant to enjoy and play
    Let them sleep well
    May they eat and play whole day

    Read More

    .

  • _suruchi_ 16w

    Sympathy is an addiction and criticism out of judgement
    is another wound.
    Avoid both

    Good morning
    ©_suruchi_